एमपी नगर में निगम के अतिक्रमण विरोधी दस्ते ने की दिखावे की कार्यवाही

नवभारत न्यूज भोपाल,

पर्यावास भवन मार्ग में ठेले और टपरियों का अतिक्रमण हटाने नगर निगम का अमला मंगलवार सुबह पहुंचा. अमले ने फेरीवालों को वहां से खदेड़कर होशंगाबाद रोड जाने वाली इस सड़क को खाली कराया, पर अतिक्रमण हटाओ दस्ते की रवानगी के साथ ही फेरीवालों ने देर रात तक सड़क के आधे हिस्से को फिर घेर लिया.

मंगलवार सुबह ही नवभारत समाचार पत्र ने प्रमुखता से इस खबर को प्रकाशित किया था कि यह अतिक्रमण बड़े सड़क हादसे का कारण बन सकती है. यह सड़क ढलान पर स्थित है और निर्वाचन आयोग, पर्यावास भवन, जीएसटी भवन और मुद्रण भवन सरीखे महत्वपूर्ण दफ्तरों का रास्ता है, जिस कारण यहां कर्मचारियों व राहगीरों की भारी तादात होने से यह व्यस्ततम सड़कों में से एक है.

यहां आधी सड़क पर फेरीवालों ने कब्जा कर रखा है, जिससे इस सड़क से गाड़ी निकालने में काफी मशक्कत करनी पड़ती है. बेतरतीब ढंग से खड़े इन ठेलों से खरीदारी करने बीच सड़क पर चार पहिया वाहन खड़े कर दिये जाते हैं, जिससे संतुलन खोते वाहन आपस में टकराकर दुर्घटनाग्रस्त हो जाते हैं.

रोज होते हैं हादसे

इस सड़क पर वाहनों के रोजना एक्सीडेंट होते हैं, जिसमें लोग चोटिल हो जाते हैं. यह सड़क अरेरा हिल्स पहाड़ी से होशंगाबाद रोड की तरफ जाती है, जहां डीबी मॉल व सुभाष फाटक से आने वाला ट्रैफिक मिलता है. यहां मिनी बस एवं बीआरटीएस का स्टापेज है, जिस कारण यहां गाडिय़ों की तादात काफी रहती है.

राहगीरों की राय

यहां फेरीवालों के कारण काफी ट्रॉफिक रहता है. मेरी मम्मी माखनलाल चतुर्वेदी वि.वि. में कार्यरत्ï है. उन्हें लेने मैं नियमित आता हूं. यही रोड क्रास करते समय बस से टक्कर के कारण हम गंभीर रूप से चोटिल हो गये.
ऋषभ मिश्रा, राहगीर

यहां न फुटपाथ है न ही ट्रैफिक सिग्नल, जिस कारण यहां पैदल चलना भी मुश्किल है. रोजाना इस अतिक्रमण के चक्कर में किसी न किसी वाहन से टक्कर होना यहां आम है.
दीपक मिश्रा, कर्मचारी

 

Related Posts: