anupam_kherनई दिल्ली,   बॉलीवुड एक्टर और देश की मौजूदा बीजेपी सरकार के समर्थक माने जाने वाले अनुपम खेर को पाकिस्तान ने कराची साहित्य महोत्सव में शामिल होने का वीज़ा देने से इनकार कर दिया है.

अनुपम खेर को वहां बतौर अतिथि बुलाया गया था और वहां उनका दो सेशन में बोलने का कार्यक्रम था. चार दिन के समारोह के लिए आयोजकों ने 18 भारतीयों को बुलाया था और अनुपम खेर उनमें से एक थे. वह एकमात्र व्यक्ति हैं, जिन्हें वीजा नहीं मिल सका. अन्य 17 प्रतिभागियों को वीजा मिल गया.

उन्होंने इस पर निराशा जताते हुए कहा, मैं काफी निराश हूं कि 18 में से 17 लोगों को वीज़ा दे दिया गया, सिर्फ मुझे छोड़कर. उन्होंने एक मुहावरे का इस्तेमाल करते हुए अपनी मायूसी को कुछ इस तरह बयां किया है, देर करना इनकार करने का सबसे घातक तरीका है.

कुछ ही दिन पहले पद्म विभूषण से सम्मानित अनुपम खेर कम-से-कम दो सेशन में भाग लेने वाले थे और महोत्सव के कार्यक्रम में उनके नाम का उल्लेख प्रमुखता से किया गया था. अनुपम खेर ने कहा, मैं इससे काफी दुखी हूं. मैं महोत्सव में भाग लेने के बारे में आगे की ओर सोच रहा था और वहां के लोगों के मन में गलतफहमी दूर करने के लिए मंच का इस्तेमाल करना चाहता था. उन्होंने कहा, हम उनके कलाकारों का भारत में स्वागत करते हैं.

अगर भारत में एक जगह पर उनकी प्रस्तुति पर आपत्तियां होती है तो दूसरे जगह उनका स्वागत होता है, लेकिन यह पारस्परिक नहीं है.

Related Posts: