modi2नयी दिल्ली,  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज सुरक्षा मामलों की मंत्रिमंडलीय समिति में हिंसा और तनावग्रस्त कश्मीर में कानून और व्यवस्था की स्थिति की आज यहां समीक्षा की। श्री मोदी चार अफ्रीकी देशों की यात्रा से सुबह ही स्वदेश लौटे हैं और उन्होंने आते ही कश्मीर की स्थिति पर चर्चा के लिये सुरक्षा समिति की बैठक की।

श्री मोदी की अध्यक्षता में हुई बैठक में केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ,वित्त मंत्री अरुण जेटली ,विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ,रक्षा मंत्री मनोहर पर्रीकर ,प्रधानमंत्री कार्यालय में राज्यमंत्री जितेंद्र सिंह ,राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल और विदेश सचिव एस जयशंकर ने हिस्सा लिया। प्रधानमंत्री निवास पर हुई इस बैठक में श्री सिंह ने प्रधानमंत्री को कश्मीर के हालात की विस्तार से जानकारी दी।

उन्होंने पिछले तीन चार दिनों के दौरान केंद्र और राज्य सरकार द्वारा स्थिति को सामान्य बनाने के लिये किये जा रहे उपायाें के बारे में भी बताया। बैठक में स्थिति पर नियंत्रण पाने के लिये रणनीति और विभिन्न उपायों पर भी चर्चा हुई। कश्मीर में उत्पन्न स्थिति पर पाकिस्तान के रुख और प्रतिक्रिया पर भी बैठक में बातचीत की गई ।

गत शनिवार को सुरक्षा बलों के साथ मुठभेड में हिजबुल कमांडर बुरहान वानी के मारे जाने के बाद घाटी में हिंसा भडक गई थी जिसमें अब तक 30 लोगों की मौत हो गई और 300 सौ से अधिक घायल हुये हैं। इस बीच श्री सिंह का 17 जुलाई से शुरु होने वाला अमेरिका दौरा भी टाल दिया गया है। श्री सिंह ने जम्मू कश्मीर की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती से इस दौरान कई बार संपर्क किया और उन्हें स्थिति से निपटने में केंद्र के हरसंभव सहयोग की पेशकश की।

उन्होंने कहा कि राज्य सरकार इस स्थिति से निपटने के लिये जो भी मदद चाहेगी उसे केंद्र सरकार मुहैया करायेगी। कानून व्यवस्था की स्थिति को सामान्य बनाये रखने के लिये उन्होंने अतिरिक्त अद्धसैनिक बल भी जम्मू कश्मीर भेजे। इसके अलावा उन्होंने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और जम्मू कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला सहित कई अन्य विपक्षी नेताओं से बात कर स्थिति को सामान्य बनाने मे सहयोग की अपील की ।

Related Posts: