नयी दिल्ली,

मुर्गियों की संख्या में आई भारी गिरावट के कारण पौष्टिक तत्वों से भरपूर ,खनिजों का खजाना , मिलावट से अछूता और सुपाच्य अंडा अब आप की जेब पर भारी पड़ने वाला है।

इन दिनों इनकी कीमत न केवल आसमान छूने लगी है बल्कि कड़ाके की ठंड के दौरान एक अंडे की कीमत दस रुपये तक पहुंच जाये तो आश्चर्य की बात नहीं होगी। राजधानी दिल्ली में अंडे की कीमत साढ़े सात रुपये पंहुच गयी है।

पोल्ट्री फेडरेशन आफ इंडिया के अनुमान के अनुसार देश में एक समय अंडा देने वाली 32 करोड़ मुर्गियां होती थीं लेकिन इस बार इसकी संख्या में तेजी से गिर कर 20 से 22 करोड़ के आसपास आ गयी है । इससे अंडे के उत्पादन में गिरावट आयी है। किसान अंडा देने में कमी होने पर मुगिंयों को बेच देते हैं और इसकी जगह नये चूजे काे पालते हैं जो 18 सप्ताह बाद अंडा देना शुरु कर देते है ।

अंडा देने वाली मुर्गी को बेचने पर इसकी कम कीमत मिलती है और आम तौर पर किसान इसे 40-50 रुपये किलों की दर से इसकी बिक्री कर देते हैं । इस बार इसकी कीमत 120 रुपये किलो तक तक पहुंच गयी थी जिसके कारण अधिक संख्या में किसानों ने इसकी बिक्री कर दी । मुर्गियां लगभग 72 सप्ताह तक अंडे देती है इसके बाद वे किसानों के लिए घाटे का सौदा हो जाती है ।

सूत्रों के अनुसार एक मुर्गी प्रतिदिन दो रुपये का दाना खा जाती है । किसान यदि 100 मुर्गियों को पालता है और उसे 50 अंडे मिलते हैं तो प्रति अंडा लागत मूल्य चार रुपये हो जाता है । इसके साथ ही उसे दवा तथा और कई अन्य खर्च वहन करना पड़ता है ।

Related Posts: