डीआरएम भोपाल के अंतर्गत आने से होगा यात्रियों को लाभ

नवभारत न्यूज भोपाल,

लंबे इंतजार के बाद आखिर बैरागढ़ रेलवे स्टेशन को डीआरएम भोपाल के अंतर्गत लाने का निर्णय हो गया है. माना जा रहा है कि फरवरी के अंत में विलीनीकरण हो जायेगा. बैरागढ़ के भोपाल रेल मंडल में शामिल होने पर बैरागढ़ के साथ-साथ सभी शहरवासियों को फायदा होगा.

बैरागढ़ रेलवे स्टेशन पर रेलवे के पास कई एकड़ जमीन है, जिस पर सात से आठ प्लेटफार्म बनाये जा सकते हैं. काफी लंबे समय से भोपाल से देश के विभिन्न स्थानों के लिये ट्रेन चलाये जाने की मांग उठ रही है.

परंतु भोपाल रेलवे स्टेशन पर प्लेटफार्म की कमी एवं जगह की कमी के कारण भोपाल से देश के अन्य स्थानों के बीच ट्रेन चलाने में जो बाधा उत्पन्न हो रही थी. उस पर विराम लगेगा और बैरागढ़ स्टेशन का उपयोग कर देश के विभिन्न स्थानों के लिये ट्रेनें चल सकेंगी.

भोपाल रेल मंडल में बैरागढ़ के शामिल होने से करोंद अंडरपास का काम जो कि अलग-अलग मंडल होने की वजह से लटका पड़ा था एवं काम नहीं हो पा रहा था, उसके भी होने की पूर्ण संभावना बनेगी एवं काम जल्दी पूर्ण हो पायेगा. बैरागढ़ में ट्रेनों के स्टाप बढ़ेंगे, नई ट्रेनें चलाईं जायेंगी और भोपाल स्टेशन पर अभी लगभग डेढ़ सौ से ज्यादा ट्रेनों का दबाव है, उसको भी कम किया जा सकेगा.

भोपाल से बैरागढ़ तक रेल लाइन पर बन रहे ओव्हरब्रिज एवं अंडर ब्रिज के कार्य भी जल्द पूर्ण हो सकेंगे. कार्यों में तेजी आयेगी. साथ ही अभी तक बैरागढ़ रतलाम मंडल में होने की वजह से बैरागढ़ स्टेशन पर निरीक्षण के लिये रतलाम मंडल से दो से तीन अधिकारी महीने में कभी आया करते थे, जिससे बैरागढ़ रेलवे स्टेशन पर सुविधाओं की काफी कमी थी.

अब भोपाल रेल मंडल में बैरागढ़ के आ जाने से डीआरएम एवं अन्य वरिष्ठï अधिकारियों के निरीक्षण का सिलसिला लगातार जारी रहेगा, जिससे बैरागढ़ रेलवे स्टेशन पर बेहतर सुविधायें मिलना चालू हो जायेंगी एवं स्टेशन पर अन्य कार्य समय पर पूर्ण होंगे.

बैरागढ़ अभी रतलाम मंडल में ही है. फरवरी से भोपाल मंडल में शामिल होगा. अभी रेलवे बोर्ड से किसी प्रकार का लिखित में कोई आदेश प्राप्त नहीं हुआ है. शामिल होने पर भोपाल का लोड कम करेंगे.
आई.एस. सिद्दीकी जनसंपर्क
अधिकारी पश्चिम-मध्य रेल भोपाल

बैरागढ़ स्टेशन के भोपाल रेल मंडल में शामिल होने पर हमें भी बहुत सहायता मिलेगी. बहुत सारी ट्रेनें मंडल परिवर्तन के कारण आधे से एक घंटे तक लेट होती थीं. अब वह समय पर चल सकेंगी.
शोभन चौधरी डीआरएम
पश्चिम-मध्य रेल भोपाल

Related Posts: