नई दिल्ली,   सुप्रीम कोर्ट ने उज्जैन के मशहूर महाकाल मंदिर में शिवलिंग के अभिषेक को लेकर बड़ा फैसला दिया है.

कोर्ट ने कहा है कि शिवलिंग का जलाभिषेक आरओ के पानी से हो और इसके लिए सिर्फ आधा लीटर पानी इस्तेमाल किया जाए. कोर्ट के आदेश के बाद अब कोई भी श्रद्धालु सिर्फ आरओ के पानी से ही महाकाल का जलाभिषेक कर पाएगा और प्रति भक्त सिर्फ आधे लीटर पानी का ही इस्तेमाल हो सकेगा.

सुप्रीम कोर्ट ने यह फैसला उस याचिका पर सुनाया है जिसमें शिवलिंग पर लगातार पानी चढऩे, भांग श्रृंगार (भांग चढ़ाना) और पंचामृत (दूध, दही, शहद, चीनी और घी) की वजह से शिवलिंग को नुकसान का हवाला देते हुए भक्तों के मंदिर के गर्भगृह में जाने और शिवलिंग को छूने पर रोक लगाने की मांग की गई थी.

याचिका की सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट ने शिवलिंग को हो रहे नुकसान की जांच के लिए एक विशेषज्ञ समिति का गठन किया था. इस समिति ने हाल ही में महाकाल मंदिर का दौरा किया था.