bpl4भोपाल,  वनमंत्री गौरीशंकर शेजवार ने आज यहां क हा कि अब मध्यप्रदेश का वन विभाग विकास और पर्यावरण को ध्यान में रखकर संतुलित फैसले करता है. उन्होंने यह बात मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की एक टिप्पणी के संदर्भ में की.
मुख्यमंत्री ने विकास कार्यो में देरी और पर्यावरण मंजूरियों की बात कहते हुए यह टिप्पणी की थी.

शेजवार ने कहा कि वन विभाग विलेन की इस छवि से उबर चुका है. पहले मुख्यमंत्री ने वन विभाग की नकारात्मक छवि की बात कही और कहा कि विभाग को विकास और पर्यावरण में संतुलन बनाकर काम करना चाहिये. वन मंत्री ने इसे एक हद तक स्वीकारा और कहा कि पहले कभी ऐसा था लेकिन अब नहीं है. वन मंत्री ने अपने विभाग का बचाव करते हुए यह भी कहा कि सालों पहले वन विभाग की विलेन जैसी छवि थी जो अब नहीं रही है.

प्रशासन अकादमी में आज मुख्य वन संरक्षकों के राज्य स्तरीय सम्मेलन में सीएम और वन मंत्री के बीच हुए इस संवाद ने काफी रोचक रूप ले लिया जो बहस का मुद्दा भी बना. मुख्यमंत्री ने कहा कि वे वन विभाग के कामकाज से नाराज नहीं हूं लेकिन हर काम के प्रस्ताव का विरोध नहीं करना चाहिए. विभाग को पर्यावरण के साथ विकास में संतुलन बनाकर कामकाज करना चाहिए.

वहीं वन मंत्री डॉ. शेजवार ने कहा कि यह प्रचारित है कि वन विभाग के पास विकास का कोई भी प्रस्ताव ले जाया जाए तो वह उसका पहली बार विरोध ही करता है लेकिन आजकल ऐसा नहीं है. विभाग अब परिस्थितियों को देखकर विकास प्रस्तावों से अपना फैसला करता है.

Related Posts: