खेलना जारी रखना चाहूंगा : सचिन

नई दिल्ली, 6 जुलाई. महान बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर भले ही चुनिंदा एकदिवसीय मैच खेल रहे हों, लेकिन उनकी इस प्रारूप को छोडऩे की फिलहाल कोई योजना नहीं है और वे फिलहाल खेलना जारी रखेंगे.

तेंदुलकर पिछले साल विश्व कप के बाद से केवल दो वन-डे श्रृंखला में खेले हैं और उन्होंने इस माह श्रींलका के दौरे पर जाने वाली टीम से भी अपने का बाहर रखा है. इससे वनडे में उनके भविष्य को लेकर अफवाहों का बाजार गर्म हो गया. तेंदुलकर ने बताया कि कोई क्या कह रहा है और क्या सोच रहा है, यह अहम नहीं है. मै क्या सोच रहा हूं, यह महत्वपूर्ण है और मैं जब तक खेलने में आनंद महसूस करता हूं, तब तक इससे जुड़ा रहूंगा और वन-डे खेलता रहूंगा. इस स्टार बल्लेबाज का कहना है कि उनके बारे में क्या बातें की जा रही है, उससे वह प्रभावित नहीं होते.

अपनी मर्जी से खेलते हैं सचिन सहवाग- भारत के सलामी बल्लेेबाज वीरेंद्र सहवाग ने कहा कि श्रीलंका में सीमित ओवरों की आगामी सीरीज में भारतीय क्रिकेट टीम को सचिन तेंदुलकर की कमी खलेगी लेकिन उन्होंने साथ ही कहा कि इस महान बल्लेबाज को अपनी मर्जी से चुनिंदा सीरीज में खेलने का अधिकार है. सहवाग ने यहां सबा करीम जेनेसिस प्रो क्रिकेट सेंटर के उद्घाटन के मौके पर संवाददाताओं से कहा कि सचिन जब नहीं खेलना को मुझे ही नहीं बल्कि पूरे देश को उसकी कमी खलती है. लेकिन लोगों को समझना होगा कि वह 39 बरस का है और उसे चुनिंदा सीरीज में खेलने की स्वीकृति होनी चाहिए.

वह निश्चित तौर पर न्यूजीलैंड के खिलाफ टेस्ट सीरीज के लिए उपलब्ध रहेगा. भारत को 2007 में टी-20 विश्वकप और 2011 में 50 ओवर का विश्वकप जिताने वाले कप्तान महेंद्र सिंह धोनी के मजबूत पक्षों के बारे में पूछने पर सहवाग ने कहा कि धोनी को काफी मजबूत टीम मिली थी. जब आपके पास मजबूत टीम होती है तो प्रदर्शन करना आसान होता है जैसा कि एक समय ऑस्ट्रेलिया के साथ था. हम विश्वकप जीते क्योंकि हमारी टीम बहुत मजबूत थी जिसे धोनी की नेतृत्व क्षमता से और मजबूती मिला. सहवाग ने कहा कि उनकी फिटनेस को लेकर अब कोई समस्या नहीं है और उन्होंने 21 जुलाई से शुरू हो रहे श्रीलंका दौरे के लिए कमर कस ली है.

उन्होंने कहा कि इंडियन प्रीमियर लीग में मैं लगभग सभी मैचों में खेला और अब फिटनेस को लेकर कोई मुद्दा नहीं है. श्रीलंका का वनडे दौर मुझे वहां होने वाले टवेंटी-20 विश्वकप के लिए तैयार करने का भी मौका देगा. सहवाग हालांकि इस बात से चिंतित नहीं हैं कि भारत के युवा बल्लेबाज हाल में वेस्टइंडीज-ए दौरे पर अच्छा प्रदर्शन करने में नाकाम रहे.

Related Posts: