amitabhनई दिल्ली,  पनामा पेपर्स मामले में बॉलीवुड महानायक अमिताभ बच्चन की मुश्किलें थमने का नाम नहीं ले रही हैंअमिताभ के दावे को गलत बताते हुए पनामा पेपर्स के दो दस्तावेज जारी किए हैं.

इन दस्तावेजों में यह साफ तौर पर लिखा है अमिताभ बच्चन ‘सी बल्क शिपिंग कंपनी लिमिटेड’ में बतौर डायरेक्टर कार्यभार संभाल रहे हैं. इन दस्तावेजों में इस बात का भी खुलासा करने का दावा किया गया है कि अमिताभ कंपनी के बोर्ड मीटिंग में टेलिफोन कॉन्फ्रेंस के जरिए शामिल होते थे.

रिपोर्ट्स के मुताबिक रिकॉर्ड्स से पता चलता है कि अमिताभ बच्?चन बतौर निदेशक इन कंपनियों में से दो की बोर्ड मीटिंग्?स में ‘कॉन्?फ्रेंस टेलीफोन’ के जरिए शामिल हुए थे. बहमास की ट्रंप शिपिंग लिमिटेड और ब्रिटिश वर्जिन आईलैंड की सी बल्कि शिपिंग कंपनी लिमिटेड की यह बैठक 12 दिसंबर 1994 को रखी गई थी. दोनों कंपनियों की तरफ से जारी सर्टिफिकेट ऑफ इनकम्?बेंसी में भी अमिताभ का नाम निदेशक और कंपनी के सदस्य के तौर पर दर्ज है.

गौर हो कि पनामा पेपर्स खुलासे में अमिताभ बच्चन का नाम आने के बाद उन्होंने ऐसे किसी भी दावों से इंकार कर दिया था. इस मामले में अमिताभ ने कहा था कि जिन कंपनियों का जिक्र किया है मैं उनमें से किसी को नहीं जानता हूं. पनामा पेपर लीक होने के बाद बॉलीवुड के महानायक अमिताभ बच्चन और उनकी बहू ऐश्वर्या राय बच्चन पर एक बड़ा आरोप लगा था. रिपोर्ट में यह दावा किया गया था कि इन दोनों ने अपनी संपत्ति छिपाने में टैक्स हैवन की मदद ली थी.

इन दस्तावेजों में 500 से ज्यादा भारतीयों के नाम हैं जिसमें सुपरस्टार अमिताभ बच्चन, अभिनेत्री ऐश्वर्या राय बच्चन के अलावा कई उद्योगपतियों के नाम भी सुर्खियों में आए थे.

Related Posts: