लास वेगस,  अमेरिका के इतिहास की सबसे घातक गोलीबारी में कम से कम 58 लोगों की मौत हुई है जबकि 500 से ज्यादा लोग घायल हुए हैं. आतंकी संगठन आईएस ने इस भीषण हमले की जिम्मेदारी ली है.

वहीं आईएसआईएस ने कहा है कि हमलावर ने कुछ महीने पहले ही धर्मपरिवर्तन कर इस्लाम अपनाया था. दूसरी तरफ अमेरिकी एजेंसी एफबीआई ने आईएस के दावे को खारिज किया है. एफबीआई ने कहा है कि लास बेगस अटैक का किसी अंतरराष्ट्रीय आतंकी संगठन से कोई संबंध नहीं है. इस हमले के एक आतंकी ने आत्महत्या कर ली.

अमेरिकी राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप ने देश के नाम अपने संबोधन में लास वेगस गोलीबारी को राक्षसी कृत्य बताया है. उन्होंने कहा कि सुरक्षा एजेंसियां जांच में जुटी हैं. ट्रंप ने पीडि़तों तक जल्द राहत पहुंचाने के लिए लास वेगस पुलिस की तारीफ की. उन्होंने कहा कि बहुत से लोगों ने अपनों को खो दिया. उन्होंने अमेरिकी ध्वज को शोक में आधा झुकाने का आदेश दिया है. ट्रंप बुधवार को मौका-ए-वारदात का दौरा करेंगे.

लास वेगस में सोमवार को एक 64 साल के हमलावर स्टीफन पैडॉक ने एक कसीनो में चल रहे म्यूजिक कॉन्सर्ट में अंधाधुंध फायरिंग कर 58 से ज्यादा लोगों की जान ले ली.