mayawatiलखनऊ,  बहुजन समाज पार्टी (बसपा) अध्यक्ष मायावती ने कहा है कि अयोध्या में विवादित ढांचा ध्वस्त करने के लिए साजिशन छह दिसम्बर की तारीख रखी गयी थी। सुश्री मायावती ने आज यहां डा़ भीमराव अम्बेडकर की 60वीं पुण्यतिथि पर आयोजित श्रद्धाजंलि सभा में कहा कि यह सोचने का विषय है कि अयोध्या में विवादित बाबरी ढांचा ध्वस्त करने के लिए छह दिसम्बर की तिथि ही क्यों चुनी गयी।

इसकी तह में जाने पर पता चलता है कि तिथि चुनने में राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ (आरएसएस) और भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की सोची समझी साजिश थी। उन्होंने कहा कि भाजपा नहीं चाहती कि दूसरे धर्मों के लोग सम्मानित जीवन जियें और उनके धार्मिक स्थल सुरक्षित रहें। डा़ अम्बेडकर ने धर्मनिरपेक्ष संविधान बनाया।

छह दिसम्बर को ही डा़ अम्बेडकर का देहान्त हुआ था इसलिए छह दिसम्बर को अयोध्या में बाबरी ढांचा गिराकर भाजपा ने कई संदेश देने की कोशिश की। गौरतलब है कि अयोध्या में छह दिसम्बर 1992 को विवादित बाबरी ढांचे को ध्वस्त किया गया था। आज उसकी 24वीं बरसी है।

Related Posts: