नयी दिल्ली, 17 जून, नससे. दो घंटे की मशक्कत के बाद एनडीए का बैठक बेनतीजा रहा. राष्ट्रपति पद की उम्मीदवारी के मामले में प्रणब मुखर्जी को समर्थन दिया जाए, या फिर अपना उम्मीदवार मैदान में उतारा जाए पर किसी प्रकार का कोई निर्णय नहीं हो सका है.

साफ तौर पर एनडीए के घटक दलों में इस मसले पर कई तरह के मत उभरकर सामने आ रहे हैं. सूत्रों के अनुसार कुछ घटक दल जहां संगमा की दावेदारी को समर्थन देने की वकालत कर रहे हैं तो कुछ मुखर्जी को समर्थन देना चाहते हैं. इस मसले पर खुद भाजपा में विभाजन साफ है. पार्टी के कुछ नेता मुकाबले के पक्ष में नहीं हैं तो कुछ का मानना है कि मुकाबला होना चाहिए. बैठक के बाद संवाददाताओं से बातचीत में शरद यादब ने कहा कि फिलहाल इस पर फैसला संभव नहीं हुआ. इस मसले पर हम और विचार करेंगे. उनके अनुसार, एलके आडवाणी  इस मसले पर एनडीए के घटक दलों के मुख्यमंत्रियों से भी विचार करेंगे. इससे पहले एनडीए की सहयोगी पार्टी शिवसेना ने पहले ही इस बैठक से किनारा कर लिया.

Related Posts: