food-inflationनयी दिल्ली,  पेट्रोल-डीजल की कीमतों में भारी गिरावट के साथ खाद्य पदार्थों एवं विनिर्मित वस्तुओं के दाम भी घटने से अगस्त महीने में थोक मूल्य सूचकांक आधारित महँगाई दर अब तक के रिकॉर्ड निचले स्तर 4.95 प्रतिशत ऋणात्मक पर आ गयी। इसके बावजूद आमजन को खाने-पीने की वस्तुओं के अत्यधिक दाम चुकाना पड़ रहे हैं. दाल-प्याज जैसी वस्तुएं गरीबों के दायरे से बाहर हैं. यह लगातार 10वां महीना है जब थोक महँगाई शून्य से नीचे रही है। इससे रिजर्व बैंक के इस बयान की पुष्टि होती है कि घरेलू अर्थव्यवस्था में माँग अभी भी कमजोर बनी हुई है। थोक महँगाई लगातार शून्य से नीचे रहने के कारण अब अर्थशास्त्री मुद्रा अवस्फीति की आशंका जताने लगे हैं।

इस साल जुलाई में थोक महँगाई 4.05 फीसदी ऋणात्मक रही थी जबकि पिछले साल अगस्त में यह शून्य से 3.85 प्रतिशत ऊपर रही थी।

 

Related Posts: