विजयवाडा,

आंध्र प्रदेश में वाम दलों, पतियाक होडा सदन समिति और अन्य दलों के राज्य को विशेष श्रेणी का दर्जा देने की मांग को लेकर आज पूर्ण बंद सफल रहा और सामान्य जनजीवन बुरी तरह प्रभावित हुआ।

बंद के दौरान व्यावसायिक प्रतिष्ठान, कार्यालय, शैक्षणिक संस्थान और सिनेमा हॉल बंद रहे और आंध्र प्रदेश राज्य परिवहन निगम की बसें भी सड़कों पर नहीं चलीं। आंदोलनकारियों ने राज्य के सभी बस अड्डों पर धरना-प्रदर्शन किया और डिपो से बसें बाहर नहीं निकलने दी।

मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) और भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (भाकपा) सचिवों प मुधु अौर के राम कृष्ण के नेतृत्व में शहर के मुख्य मार्गों में रैलियां आयोजित की गयीं। वाईएसआरसीपी और कांग्रेस नेताओं ने विभिन्न स्थानों में बंद और रैलियों में भाग लिया।

आंदोलनकारियों ने राज्य के कई हिस्सों में सड़कों को अवरुद्ध किया था। विपक्षी वाईएसआरसीपी, कांग्रेस, जन सेना पार्टियों ने भी बंद को अपना समर्थन दिया।

विधानसभा में विपक्ष के नेता वाई एस जगन मोहन रेड्डी पिछले 138 दिनों से पदयात्रा पर हैं और उन्होंने बंद के समर्थन में आज अपनी पदयात्रा को विराम दिया।

पुलिस ने कहा कि राज्य में अभी तक किसी प्रकार की अप्रिय घटना की रिपोर्ट नहीं मिली है। मुख्यमंत्री एन चन्द्रबाबू नायडू ने बंद पर हालांकि नाराजगी व्यक्त करते हुए कहा कि बंद से कुछ हासिल नहीं होने वाला। उन्होंने आज यहां जिला कलेक्टरों के साथ टेलीकांफ्रेंस में कहा कि विभिन्न संगठनों और राजनीतिक दलों के बंद के कारण राज्य को भारी नुकसान होगा।

Related Posts: