javdekarनयी दिल्ली,   केन्द्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने उत्तर प्रदेश के अमेठी स्थित भारतीय सूचना प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईआईटी) को गैर कानूनी संस्थान बताते हुये आज राज्यसभा में कहा कि छात्रों को पठनपाठन में आ रही शिकायतों को दूर करने के लिए इसे इलाहाबाद स्थानातंरित किया जा रहा है।

श्री जावड़ेकर ने कल सदन में रायबरेली और अमेठी में केन्द्रीय संस्थानों को बंद किये जाने को लेकर उठाये गये सवाल का शून्यकाल में जबाव देते हुये कहा कि वर्ष 2005 में मानव संसाधन विकास मंत्रालय के एक आदेश में इस संस्थान की स्थापना की गयी थी लेकिन इसे कानूनी दर्जा नहीं दिया गया। वर्ष 2005-06 में इस संस्थान में छात्रों काे प्रवेश दिया गया था लेकिन अब तक इस संस्थान में सिर्फ एक फैकल्टी स्थायी है और शेष फैकल्टी इलाहाबाद स्थित आईआईआईटी से पढाने के लिए आते हैं। इसको लेकर छात्रों ने शिकायत की थी।

उन्होंने कहा कि छात्रों की शिकायतों के समाधान के लिए उनके मंत्रालय ने एक समिति गठित की थी और उसकी सिफारिशों के अनुरूप छात्रों को इलाहाबाद स्थित संस्थान में स्थानातंरित किया जा रहा है और अमेठी स्थित संस्थान को बंद किया जा रहा है। इसमें कोई राजनीतिक विद्वेष नहीं है। इस संस्थान के भवन में लखनऊ स्थित डा बाबा भीमराव अंबेडकर विश्वविद्यालय के तहत कला कालेज शुरू किया जा रहा है और सभी कर्मचारियों को उसमें नौकरी दी जायेगी। उसमें कौशल विकास केन्द्र भी शुरू किया जा रहा है।

उन्होंने कहा कि हाल ही में रायबरेली में एक केन्द्रीय विद्यालय शुरू करने का आदेश दिया गया है जिससे यह साफ हो गया है कि कांग्रेस अध्यक्ष या उपाध्यक्ष के निर्वाचन क्षेत्र में राजनीतिक विद्वेष से काम नहीं किया जा रहा है। इस पर कांग्रेस के प्रमोदी तिवारी ने कहा कि अमेठी स्थित संस्थान में 70 कर्मचारी अभी पदस्थ है और संस्थान को बंद किये जाने के विरोध में हडताल कर रहे हें। पिछले 11 वर्षाें से यह संस्थान चल रहा है और यदि कोई कानूनी खांमियां है तो उसे दूर किये जाने की जरूरत थी न:न कि संस्थान को गैर कानूनी बताते हुये बंद कर दिया जाना चाहिए।

उन्होंने कहा कि कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी की संसदीय क्षेत्र रायबरेली और कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी के निर्वाचन क्षेत्र अमेठी स्थित छह सरकारी कंपनियों और संस्थानों को बंद करने या स्थानातंरित करने का निर्णय लिया गया है। इसकी सूची उन्होंने कल दी थी और यह गतिविधि राजनीतिक विद्वेष का परिणाम है।

Related Posts:

दीपावली पर व्यापारियो΄ मे΄ जबर्दस्त उत्साह, जमकर हो रही खरीददारी
सचिन के बहाने राजनीति कर रही है सरकार: रामदेव
राष्ट्रद्रोह कानून की हो रही समीक्षा
मोदी ने की आंध्र प्रदेश में सूखे की स्थिति की समीक्षा
ग्रामीण आवास विकास की नयी योजना को मंजूरी
छत्तीसगढ़ में 22 हजार विद्यार्थियों के लैपटॉप की राशि सीधे उनके बैंक खातों में