saraswatiचेन्नई,  तमिलनाडु के एक सत्र न्यायालय ने कांची कामकोटि मठ के अाचार्य जयेन्द्र सरस्वती समेत सभी नौ आरोपियों को वर्ष 2002 में मठ के एक कर्मचारी पर जानलेवा हमला के मामले में सबूत के अभाव में आज बरी कर दिया।

अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश राजामणिकम ने लेखा परीक्षक राधाकृष्णन की हत्या के मामले में सुनवाई के बाद सभी आरोपियों को बरी करते हुये कहा कि अभियोजन पक्ष इस मामले में कोई ठोस सबूत पेश नहीं कर पाया।
फैसले के समय आचार्य सरस्वती समेत सभी नाै आरोपी अदालत में मौजूद थे।

Related Posts: