नयी दिल्ली,  रक्षा राज्य मंत्री डा. सुभाष भामरे ने जम्मू कश्मीर के लिए केन्द्र के वार्ताकार दिनेश्वर शर्मा के बयान का समर्थन करते हुए आज कहा कि सरकार राज्य के नौजवानों को राष्ट्र की मुख्यधारा से जोड़ना चाहती है लेकिन आतंक फैलाने वालों के लिए उसके पास केवल बंदूक की गोली है।

डा. भामरे ने आज यूनीवार्ता से कहा ,“ आतंकवादियों की हरकतों का जवाब गोली है, लेकिन हम चाहते हैं कि स्थानीय नौजवान राष्ट्र की मुख्यधारा से जुड़ें। इसीलिए विकास कार्य और कश्मीर घाटी के युवाओं को विकास की मुख्यधारा से जोड़ना हमारा एजेन्डा है। ”

श्री शर्मा ने एक दिन पहले ही एक अखबार को दिये साक्षात्कार में कहा था कि बंदूक की गोलियां कुछ निश्चित लोगों के लिए हैं। वे आम आदमियों के लिए नहीं बल्कि आतंकवादियों के लिए हैं। उन्होंने कहा था,“ लोगों की समस्याओं का समाधान करना होगा। मेरा कार्य इसे अमली जामा पहनाना है और मैं अपेक्षाओं पर खरा उतरने की कोशिश करूंगा। ”

गुप्तचर ब्यूरो के पूर्व प्रमुख श्री शर्मा को हाल ही में जम्मू कश्मीर के लिए वार्ताकार नियुक्त किया गया था और उन्हें राज्य में सभी संबंधित पक्षों के साथ बातचीत करने की जिम्मेदारी दी गयी है।

आतंकवादियों को शरण देने पर अमेरिका द्वारा पाकिस्तान को हाल ही में दी गयी चेतावनी के बारे में पूछे जाने पर डा.भामरे ने कहा , “ हम दुनिया को पहले से बता रहे हैं कि आतंकवाद अच्छा या बुरा नहीं होता। आतंकवाद बुरा ही होता है और यह किसी एक जगह तक सीमित नहीं है । यह पूरी दुनिया में है और सभी इससे परेशान हैं। ”

पाकिस्तान का नाम लिये बिना डा. भामरे ने कहा ,“ हमारे पडोसियों विशेष रूप से पश्चिम मोर्चे पर यह महसूस करना होगा कि वे भी आतंकवाद से जूझ रहे हैं इसलिए वे भी अच्छे या बुरे आतंकवाद का खेल नहीं खेल सकते । उन्हें आतंकवादियों की सीमा पार घुसपैठ और परोक्ष युद्ध रोकना होगा। ”

इससे पहले डा.भामरे ने सीमा सड़क संगठन के महानिदेशक लेफ्टिनेंट जनरल सुरेश शर्मा और दिल्ली मेट्रो रेल कारपोरेशन के प्रबंध निदेशक मंगू सिंह के साथ सीमा सडक संगठन की स्मारक पुस्तिका का विमोचन किया।

Related Posts: