नयी दिल्ली,  आम आदमी पार्टी (आप) के संस्थापक सदस्यों में से एक एवं पार्टी के वरिष्ठ नेता कुमार विश्वास ने दिल्ली नगर निगम(एमसीडी) चुनावों नतीजों पर पार्टी के रूख से अलग राय रखते हुए आज कहा कि इन चुनावों में आप को जनता ने हराया है, इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन(ईवीएम) का इस हार से कोई लेना-देना नहीं है।

पार्टी के कामकाज के तरीके से पहले ही नाराज चल रहे कुमार विश्वास ने एक टेलीविजन चैनल के साथ बातचीत में आप में व्यापक फेरबदल की वकालत की। छब्बीस अप्रैल को आये एमसीडी के नतीजों के बाद पार्टी के शीर्ष नेतृत्व पर नेताओं का हमला जारी है। उन्होंने कहा कि अरविंद केजरीवाल को पाकिस्तान पर की गयी सर्जिकल स्ट्राइक पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के खिलाफ बयानबाजी नहीं करनी चाहिये थी।

श्री विश्वास ने पंजाब विधानसभा चुनावों में भी पार्टी का प्रचार नहीं किया था और दिल्ली नगर निगमों के चुनाव में भी वह प्रचार से दूर रहे थे। उन्होंने कहा,“हमें जनता का समर्थन नहीं मिला, पार्टी ईवीएम की वजह से एमसीडी चुनाव में पराजित नहीं हुई। संगठन में व्यापक बदलाव की कोशिश की जानी चाहिये, पार्टी के कार्यकर्ताओं के साथ भी संवाद का अभाव रहा है।”

पार्टी के फैसले चंद नेताओं द्वारा बंद कमरे में किये जाने का आरोप लगाते हुए कुमार विश्वास ने कहा कि एमसीडी चुनाव में पार्टी ने गलत उम्मीदवारों को उतारा। ईवीएम को लेकर पार्टी द्वारा लगातार उठाये जा रहे सवालों पर कुमार विश्वास ने कहा,“मशीन में गड़बड़ी चुनाव मुद्दा उठाने के लिये चुनाव आयोग है, कोर्ट है और भी कई मंच हैं, जहां पार्टी अपनी आपत्ति दर्ज करा सकती है।” उन्होंने कहा,“पार्टी को यह फैसला करना होगा कि जंतर-मंतर पर प्रदर्शन किसलिये किया जाना है। यह प्रदर्शन ईवीएम को लेकर हो, भ्रष्टाचार, कांग्रेस या मोदी से लड़ने के लिये। ”

गौरतलब है कि एमसीडी चुनाव के बाद पार्टी में विरोध के स्वर उठ रहे हैं। चांदनी चौक से विधायक अलका लांबा ने इस्तीफा दे दिया है। दिल्ली के संयोजक दिलीप पांडे ने भी हार की जिम्मेदारी लेते हुए इस्तीफा दे दिया। श्रम मंत्री गोपाल राय को नया संयोजक बनाया गया है। श्री केजरीवाल के राजनीतिक सलाहकार आशीष तलवार ने भी दिल्ली प्रभारी से इस्तीफा दे दिया है।

श्री विश्वास ने कहा कि पंजाब के बाद दिल्ली में भी पार्टी की हार हुई है और इस पर मिल बैठकर मंथन करने की जरूरत है। श्री राय को दिल्ली का संयोजक बनाये जाने पर उन्होंने कहा कि वह सक्षम व्यक्ति हैं और उन्हें यह जिम्मेदारी देने के पक्ष में बहुमत से फैसला हुआ। पार्टी में कुछ और सक्षम व्यक्ति थे लेकिन बहुमत ने उन्हें संयोजक चुना, उनकी भी इससे सहमति है।

Related Posts: