sumitra-mahajanउत्तेजित सदस्यों को लोस अध्यक्ष ने लगाई कड़ी फटकार, 

नयी दिल्ली,12 अगस्त. लोकसभा में आज ललित मोदी प्रकरण पर कार्य स्थगन प्रस्ताव पर चर्चा के दौरान कई मौकों पर अध्यक्ष सुमित्रा महाजन को सत्ता पक्ष और विपक्ष के उत्तेजित सदस्यों को शांत करने के लिए कड़ी फटकार लगानी पड़ी।
सुबह प्रश्नकाल के बाद सदन में कांग्रेस के नेता मल्लिकार्जुन खडग़े ने जैसे ही अपना कार्य स्थगन प्रस्ताव रखा उसकी शब्दावली को लेकर विवाद हो गया।

श्री खडग़े ने कहा कि उन्होंने जिस शीर्षक के साथ प्रस्ताव दिया है उसी नाम से अगर इसे स्वीकार किया जाता है तभी वह चर्चा में भाग लेंगे। इस पर अध्यक्ष ने कहा कि उन्हें शुद्धिकरण का अधिकार है और इसलिए उन्होंने अनावश्यक शब्द को निकाल दिया है। लेकिन कांग्रेस के सदस्य अध्यक्ष के आसन के सामने आकर हंगामा करने लगे और सदन की कार्यवाही साढ़े बारह बजे तक स्थगित कर दी गयी। सदन की कार्यवाही शुरू होने के बाद प्रस्ताव में उल्लिखित ‘भगोड़ा’ शब्द को लेकर श्रीमती महाजन ने जानना चाहा कि इस शब्द को रखा जा सकता है या नहीं। इस पर कांग्रेस के सदस्यों ने शोरशराबा किया।

अध्यक्ष ने कहा, आप सब ज्ञानी हैं मैं अज्ञानी हूं। मैं अपने ज्ञान के लिए पूछ रही हूं। भगोड़ा शब्द पर स्पष्टीकरण देने के लिए वित्त मंत्री अरुण जेटली खड़े हुए और उन्होंने कहा कि पिछले सप्ताह ही ललित मोदी के खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी हुआ है लेकिन पिछली सरकार के दौरान वह भगोड़े नहीं थे। श्री जेटली की इस बात पर कांग्रेस के सदस्यों ने शोरशराबा किया। सत्तापक्ष ने भी हंगामा किया।

Related Posts: