kejriwalनयी दिल्ली 17 जून. आम आदमी पार्टी (आप) की आने वाले दिनों में मुसीबतें फिर से बढ़ सकती है क्योंकि दिल्ली पुलिस पार्टी के 21 विधायकों के खिलाफ चार्जशीट दायर करने की तैयारी कर रही है. इनमेें मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल, उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया, विधानसभा अध्यक्ष रामनिवास गोयल, ऊर्जा मंत्री सत्येन्द्र जैन और पूर्व कानून मंत्री सोमनाथ भारती शामिल बताये जा रहे है.

सूत्रों को कहना है कि आप के 21 विधायकों के खिलाफ 24 अपराधिक मामलों में दिल्ली पुलिस चार्जशीट दाखिल करने की तैयारी में है. दिल्ली सरकार के पूर्व कानून मंत्री जितेन्द्र तोमर को पुलिस फर्जी डिग्री मामले में पहले ही गिरफ्तार कर चुकी है. इसके अलावा करोल बाग के विधायक विशेष रवि के मामले में आरंभिक जांच चल रही है. दिल्ली कैंट से विधायक कमांडों सुरेन्द्र कुमार का नाम भी फर्जी डिग्री मामले में उछला है. श्री केजरीवाल पर छ: मामलों में आरोप पत्र अदालत में दाखिल हो चुके है. दो मामलों में दिल्ली पुलिस जांच कर रही है. मुख्यमंत्री के खिलाफ एक अपराधिक मामले में चार अगस्त को आरोप तय होने है जिससे उनकी मुसीबतें बढ़ सकती हैं.

दिल्ली पुलिस पार्टी के जिन अन्य विधायकों के खिलाफ आरोप पत्र दाखिल करने की तैयारी में है उनमें सर्वश्री जरनैल सिंह ,अखिलेश त्रिपाठी, संजीव झा, राकेश गुप्ता, गुलाब सिंह, रघुवीर शौकीन, राखी बिड़लान, वेद प्रकाश, मनोज कुमार, सहीराम पहलवान, रितुराज, प्रकाश जड़वाल, अमानतुल्ला खान, नरेश बाल्यान और सोमदत्त शामिल है. विधायकों पर कार्रवाई की खबरों के संबंध में दिल्ली पुलिस आयुक्त भीमसेन बस्सी ने कहा है कि हमारी कोशिश रहती है कि हर मामले में आरोप पत्र जल्दी दाखिल किये जायें. हालांकि उन्होंने विधायकों पर कार्रवाई की खबरों पर कहा की इस बाबत उन्हें कोई जानकारी नहीं है.

आप विधायकों पर चोरी, मारपीट, धोखाधड़ी, जान से मारने की धमकी देने ,जबरन घर में घुसने, सरकारी कर्मचारी पर हमला करने, सार्वजनिक रूप से भड़काऊ भाषण देने आदि के आरोप और मुकदमें दर्ज है. कुछ मामलों में दोषी पाये जाने पर सात साल तक की सजा और कई मामलों में दस साल से लेकर आजीवन कारावास तक की सजा का प्रावधान है.

Related Posts:

भेल के 50 कर्मचारी सेवानिवृत्त
लोकतंत्र में रूकावट डाल रहे हैं हवालाबाज: मोदी
विदेश जाने पर हिंदू के तौर पर जाने जाते हैं सभी भारतीय
देश तोडऩे के नारे अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता नहीं : जेटली
त्वरित न्याय के लिए जजों के रिक्त पदों को भरना जरूरी
राजीव गांधी हत्याकांड के दोषी पर रुख स्पष्ट करे केंद्र: सुप्रीम कोर्ट