CJI2नयी दिल्ली,  मुख्य न्यायाधीश टी एस ठाकुर ने न्यायालयों में लंबित मामलों में हो रही बढ़ोतरी पर गहरी चिंता व्यक्त करने के साथ ही आबादी के अनुरूप न्यायाधीशों की संख्या में बढ़ोतरी करने में कार्यपालिका की निष्क्रियता पर कड़ी आपत्ति जतायी है।

न्यायमूर्ति ठाकुर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की मौजूदगी में मुख्यमंत्रियों एवं उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायधीशों के सम्मेलन को संबोधित करते हुये आज उस भावुक हो गये और उनका गला रूंध गया, जब उन्होंने कहा कि आप पूरी जिम्मेदारी न्यायपालिका पर नहीं डाल सकते हैं।

उन्होंने कहा कि न:न सिर्फ अपराध या आम लोगों के मामले अदालतों तक पहुंच रहे हैं बल्कि विकास से जुड़े मामले भी अदालतों में आ रहे हैं।

Related Posts:

ध्रुवनारायण,तरुण विजय के खिलाफ कार्रवाई की मांग
बारदानों के लिए केन्द्र का ध्यानाकर्षित करेंगे सीएम
पंचायतों में 50 फीसद महिला कोटे की तैयारी
अगस्ता मामले में “पर्दे के पीछे” से काम करने वालों को बेनकाब करेगी सरकार : पर्रि...
सांसद अरुण कुमार और विधायक ललन पासवान रालोसपा से निलंबित
विश्वविद्यालयों में विचारों के आदान-प्रदान पर अंकुश सही नहीं : प्रणव