पुलिस नहीं ले गई अस्पताल

छिंदवाड़ा,

जीआरपी पुलिस की लापरवाही फिर एक बार सामने आई है. आमला ट्रेन में व्यापारी को जहर खिलाकर उससे 15 लाख रूपए की लूट हो गई.

कागजी कार्यवाही का हवाला देकर पुलिस ने व्यापारी को जिला अस्पताल तक नही पहुंचाया, शाम 4 बजे उसे जिला अस्पताल पहुंचाया गया तब तक व्यापारी की मौत हो चुकी थी. परिजन श्रीकुमार अहिरवार से प्राप्त जानकारी के अनुसार अमरवाड़ा के वार्ड न. 15 निवासी दर्शन पिता महरप्रसाद राठोरिया 42 वर्ष चिरौंजी का व्यापारी था.

वह एक सप्ताह पूर्व चिरौंजी बेचने के लिए महाराष्ट्र गये थे और व्यापार करने के बाद लगभग 15 लाख रुपए लेकर आमला ट्रेन से छिंदवाड़ा की ओर लौट रहा था तब रास्ते में अज्ञात बदमाशों ने उसे जहरीली वस्तू खिला दी और उसके पास बैग में रखे 15 लाख रुपए लूट लिए.

दोपहर आमला ट्रेन 12:30 बजे छिंदवाड़ा रेल्वे स्टेशन पहुंची आमला ट्रेन में उसे बेहोशी की अवस्था में पाया गया. 4 घंटे बाद उसके परिजनों ने किसी तरह उसे जिला अस्पताल पहुंचाया जहां व्यापारी की मौत हो चुकी थी.

मृतक के जीजा श्रीकुमार अहिरवार सहित अन्य परिजनों ने जीआरपी पुलिस पर गंभीर आरोप लगाया है कि जीआरपी पुलिस ने मृतक दर्शन राठोरियों को उनके लाख कहने पर भी जिला अस्पताल नहीं पहुंचाया. पुलिस अपनी कार्रवाई का हवाला देती रही.

शाम 4 बजे उसे जिला अस्पताल पहुंचाया गया जहां उसे मृत घोषित कर दिया गया. वहीं जीआरपी पुलिस के एएसआई आर.के कस्तवार का कहना है कि मुझे इस विषय में कोई जानकारी नही थी लापरवाही की जांच कराई जाएगी और दोषी कर्मचारियों पर कार्रवाई की जाएगी.

Related Posts: