24nn9भोपाल, 24 अगस्त. मानव संसाधन विकास मंत्रालय के सुझाव एवं यूनिवर्सिटी ग्रांट कमीशन के दिशा-निर्देश पर च्वाइस बेस के्रडिट सिस्टम (सी.बी.सी.एस.) के जरिये उच्च शिक्षा देने वाला राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय मध्यप्रदेश का पहला विश्वविद्यालय बन गया है.

उच्च एवं तकनीकी शिक्षा मंत्री उमाशंकर गुप्ता ने आज इसका शुभारंभ किया.केन्द्रीय मानव संसाधन विकास राज्य मंत्री प्रो. रामशंकर कठेरिया ने भी सी.बी.सी.एस. शुरू करने पर विश्वविद्यालय को बधाई दी है.गुप्ता ने कहा कि अलग-अलग क्षेत्र में जाकर सी.बी.सी.एस. के बारे में जानकारी दें

.उन्होंने कक्षा में विद्यार्थियों की कम उपस्थिति पर चिंता व्यक्त की.गुप्ता ने कहा कि विद्यार्थी को जब कक्षा में कुछ अतिरिक्त सीखने को मिलेगा, तभी वह आयेगा.उन्होंने कहा कि चर्चा के बाद जो सुझाव आयें उन्हें भी सिस्टम में शामिल करें.तकनीकी शिक्षा मंत्री ने कहा कि कॉलेज में नाम पट्टिका अंग्रेजी के साथ ही हिन्दी में भी लगायें. इस मौके पर कंट्रोलर डॉ. मोहन सेन ने योजना का प्रेजेंटेशन दिया.इस मौके पर सेके्रेटरी अरुण नाहर, रजिस्ट्रार एस.के. जैन और तकनीकी संस्थाओं के संचालक उपस्थित थे.

Related Posts: