नई दिल्ली,  सरकार ने गोल्ड बॉन्ड बेचना शुरू तो कर दिया है लेकिन ये सरकार को परेशानी में डाल सकता है। इस बारे में रिजर्व बैंक ने वित्त मंत्रालय को चेतावनी भी दे डाली है।

दरअसल 6 अप्रैल को गोल्ड बॉन्ड को लेकर बैठक हुई थी और वित्त मंत्रालय की इस बैठक के दौरान आरबीआई ने गोल्ड बॉन्ड पर चिंता जताई थी। आरबीआई की दलील है कि गोल्ड बॉन्ड के मैच्योरिटी के वक्त सोने के दाम बढ़े तो मुसीबत हो सकती है और मैच्योरिटी पर सोने की कीमत के बराबर रकम देनी होगी। साथ ही गोल्ड बॉन्ड में निवेश ज्यादा हुआ तो मोटी रकम का भुगतान करना पड़ सकता है। आरबीआई ने सरकार को इस मुसीबत से बचने के लिए कई सुझाव दिए हैं।

आरबीआई के मुताबिक गोल्ड बॉन्ड जारी करने की एक सीमा तय की जाए। वित्त मंत्रालय की बैठक में सीमा तय करने पर सहमति बनी है। साथ ही कुल देनदारी के एक तय हिस्से के बराबर बॉन्ड जारी किया जाए। आरबीआई ने सलाह दी है कि कुल देनदारी के 2 फीसदी से ज्यादा बॉन्ड जारी ना हो।

Related Posts: