Uddhavमुंबई, 16 मार्च. शिवसेना ने सोमवार को अदालतों से कहा कि ये सार्वजनिक हितों को ध्यान में रखते हुए आस्था और धर्म के मामलों में दखल न दें.

पार्टी की ओर से यह बयान बंबई उच्च न्यायालय के हाल के उस आदेश के बाद आया है, जिसमें संकरे या अत्यधिक यातायात वाले इलाकों में मंडप अथवा शामियाने पर प्रतिबंध लगा दिया गया है. शिवसेना ने पार्टी के मुखपत्र च्सामनाज् के संपादकीय में लिखा है कि न्यायालय के इस आदेश से गणेशोत्सव, दही-हांडी, गुडी पर्व, शिव जयंती तथा अन्य राष्ट्रीय अथवा धार्मिक उत्सवों पर असर पड़ेगा.

Related Posts: