नयी दिल्ली ,

दूरसंचार नियामक ट्राई ले नेट निरपेक्षता के पक्ष में सिफारिशें की है जिसमें कहा गया है कि इंटरनेट तक पहुंच के लिए किसी तरह का प्रतिबंध नहीं होना चाहिए। दूरसंचार नियामक प्राधिकरण ने इस संबंध में की गयी अपनी सिफारिशों में कहा है कि वह डाटा के उपयोग में किसी तरह के भेदभाव के पक्ष में नहीं है।

इंटरनेट के स्पीड को कम करने, कंटेंट देखने या नहीं देखने देने या इंटरनेट के उपयोग को नियंत्रित करने नहीं किया जा सकता है।

ट्राई ने नेट निरपेक्षता पर अपनी बहुप्रतीक्षित सिफारिशें सरकार को सौंपी है। इसमें कहा गया है कि कंटेंट का अर्थ सभी तरह के कंटेंट , एप्लीकेशंस, सेवायें और अन्य डाटा शामिल है। इसके साथ ही इंटरनेट का किसी तरह से उपयोग भी इसके दायरे में है।

नियामक ने यह स्पष्ट किया है कि सेवा प्रदाता किसी के साथ भी कोई ऐसा समझौता या करार नहीं करेंगे जिससे इंटरनेट का उपयोग प्रभावित होगा। ट्राई ने पिछले वर्ष मई में इस संबंध में मशविरा पत्र जारी किया था।

इसके बाद इस वर्ष जनवरी में विस्तृत मशविरा पत्र जारी किया गया जिसमें नेट निरपेक्षता फ्रेमवर्क के बारे में जानकारियां मांगी गयी थी। ट्राई ने फरवरी 2016 में नेट निरपेक्षता का समर्थन किया था और डाटा के उपयोग में भेदभाव को प्रतिबंधित कर दिया था।

Related Posts: