नयी दिल्ली,

वरिष्ठ अधिवक्ता इंदु मल्होत्रा कल उच्चतम न्यायालय के न्यायाधीश के तौर पर शपथ ले सकती हैं।

केंद्र सरकार ने कॉलेजियम की सिफारिश मानते हुए सुश्री मल्होत्रा के उच्चतम न्यायालय के न्यायाधीश के तौर पर नियुक्ति को हरी झंडी दे दी है। कानून मंत्रालय के सूत्रों ने इसकी पुष्टि की है। सुश्री मल्होत्रा वकील से सीधे उच्चतम न्यायालय की न्यायाधीश बनने वाली पहली महिला होंगी।

सूत्रों ने हालांकि यह स्पष्ट किया कि उत्तराखंड के मुख्य न्यायाधीश के एम जोसेफ की नियुक्ति की फाइल फिलहाल रुकी है। सूत्रों के मुताबिक न्यायमूर्ति जोसेफ के नाम की सिफारिश पर सरकार को लग रहा है कि कॉलेजियम ने वरिष्ठता और क्षेत्रीय प्रतिनिधित्व को नजरअंदाज किया है। न्यायमूर्ति जोसेफ उच्च न्यायालयों के 669 जजों की वरिष्ठता सूची में 42वें नंबर पर हैं।

गौरतलब है कि कॉलेजियम ने 22 जनवरी को न्यायमूर्ति जोसेफ और न्यायमूर्ति मल्होत्रा की नियुक्ति की सिफारिश की थी। फरवरी के पहले हफ्ते में दोबारा सिफारिश मिलने के बाद कानून मंत्रालय ने दोनों की नियुक्ति रोक दी थी, क्योंकि वह केवल सुश्री मल्होत्रा के नाम को स्वीकृति देना चाहता था।

सूत्रों का कहना है कि अप्रैल के पहले हफ्ते में केंद्र सरकार ने इंदु मल्होत्रा की फाइल खुफिया ब्यूरो (आईबी) के पास भेजी थी। वहां से हरी झंडी मिलने पर केंद्र ने उनकी नियुक्ति को हरी झंडी दे दी है।