ट्रक में घुसी स्कूल बस, 4 बच्चों और बस ड्रायवर की मौत

  • नौ बच्चे हुए घायल, 2 की हालत गंभीर

मृतकों के नाम
राहुल (ड्रायवर), हरप्रीत कौर
श्रुति लुधियानी, स्वस्तिक पंड्या
कृति अग्रवाल

इंदौर,

इंदौर के बिचौली मर्दाना बायपास पर स्कूल बस दूसरी साइड से आ रहे ट्रक में जा घुसी. घटना में स्कूल के 4 बच्चों और ड्रायवर समेत पांच की की मौत हो गई. वहीं 9 बच्चे घायल हैं जिनमें से 2 की हालत गंभीर है. बस दिल्ली पब्लिक स्कूल की थी.

जानकारी के अनुसार हादसा शाम को चार बजे लगभग हुआ. दिल्ली पब्लिक स्कूल की बस स्कूल छूटने के बाद बच्चों को छोडऩे स्कूल से रवाना हुई थी. बिचौली मर्दाना बायपास पर ओवर ब्रिज के पास स्कूल बस के ड्रायवर से स्टेयरिंग से अपना नियंत्रण खो दिया और डिवाइडर लांघते हुए दूसरी ओर से आ रहे लोडेड ट्रक में जा घुसा, टक्कर इतनी भीषण थी स्कूल बस का अगला हिस्सा पूरी तरह क्षतिग्रस्त हो गया.

बस के चालक की मौके पर ही मौत हो गई. घटना में कई बच्चे घायल हुए. घायल बच्चों को बॉम्बे हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया था लेकिन यहां 4 बच्चों ने दम तोड़ दिया. घायल 9 बच्चों का फिलहाल बॉम्बे हॉस्पिटल में इलाज जारी है. एसपी पूर्व अवेधश कुमार गोस्वामी ने पुष्टि करते हुए बताया कि हादसे में 4 बच्चों और ड्रायवर की मौत हो गई. जबकि 9 का इलाज चल रहा है जिसमें 2 गंभीर है.

वरिष्ठ पुलिस और प्रशासनिक अधिकारी बॉम्बे हॉस्पिटल पहुंच गए थे. बताया जा रहा है कि स्कूल बस का स्टेयरिंग फेल हो गया था और उस दौरान उसकी गति काफी तेज थी. वहीं सीएम शिवराज सिंह चौहान ने इस हादसे पर दु:ख जताया है. प्रदेश के गृह व परिवहन मंत्री भूपेंद्र सिंह ने 24 घंटे में इस घटना की जांच के आदेश दिए हैं.

चिंतित पालक पहुंचे अस्पताल

घटना की जानकारी मिलते स्कूल में पालकों की भीड़ लग गई. सभी पालक एक-दूसरे से बच्चों की हाल-चाल जानते रहे. वहीं कई पालक अस्पताल भी पहुंचे. जिनके बच्चे घायल थे उनकी चेहरे पर चिंता साफ नजर आ रहे थे. वहीं जिन बच्चों की मौत हो गई उनके माता-पिता की आंखों से आंसू थमने का नाम नहीं ले रहे थे. दूसरी ओर अस्पताल में भी बड़ी संख्या में लोगों की भीड़ लग गई.

आंखें दान करने का निर्णय

एक तरफ तो घटना से जहां सारा शहर स्तब्ध था. वहीं दूसरी तरफ मृत बच्चों के परिजनों ने साहसिक और अनुकरणीय कदम उठाते हुए अपने बच्चों की आंखें दान करने का फैसला लिया. बताते हंै कि मृत बच्चों को एमवाय ले जाया गया जहां उनकी आंखें दान की गईं.

Related Posts: