itarsiनयी दिल्ली, 19 जून. रेलवे ने मध्यप्रदेश में पश्चिम मध्य रेलवे के इटारसी जंक्शन के सेंट्रल केबिन में लगी आग के कारण रूट रिले इंटरलॉकिंग (आरआरआई ) सिस्टम पैनल के नष्ट होने को रेलवे के इतिहास में एक ‘अभूतपूर्व आपदाÓ बताते हुए आज कहा कि स्थिति को ठीक करने में 35 दिन का समय लगेगा और इस दौरान गाडिय़ों की आवाजाही पर असर पड़ेगा.

रेलवे बोर्ड में सदस्य (यातायात) अजय शुक्ला ने यहाँ संवाददाताओं को बताया कि उत्तर और दक्षिण तथा पूर्व एवं पश्चिम भारत को जोडऩे वाले देश के सबसे महत्वपूर्ण जंक्शन पर हुआ यह हादसा बड़ी से बड़ी दुर्घटना से अधिक विनाशकारी साबित हुआ है और इससे इटारसी में रेल परिचालन सौ साल पहले की स्थिति में आ गया है. उन्होंने कहा कि रेलवे के इतिहास में यह एक अभूतपूर्व आपदा की स्थिति है.

श्री शुक्ला ने बताया कि आरआरआई पैनल से करीब सौ प्वान्ट्स एवं इतने ही सिग्नलों को संचालित किया जाता रहा है. आग लगने के कारण पैनल और प्वान्ट्स को जोडऩे वाली पूरी वॉयरिंग जल गयी है. इसकी जगह नया पैनल लगाया जाना है जिसे लगाने एवं परिचालित करने में 35 दिन लगेंगे तथा इसके लिये 22 जुलाई की तारीख तय की गयी है. उन्होंने बताया कि स्थिति को सामान्य बनाने में रेलवे के अधिकारी युद्धस्तर पर काम कर रहे हैं. रेलवे बोर्ड के अधिकारी, पश्चिम मध्य रेलवे के महाप्रबंधक, भोपाल के मंडल रेल प्रबंधक इटारसी में कैम्प कर रहे हैं. एक सवाल के जवाब में उन्होंने बताया कि नया पैनल लगाने में ज्य़ादा समय नहीं लगना है लेकिन जली वॉयरिंग को ठीक करने में समय लगेगा.

Related Posts: