laraपूर्व मिस यूनिवर्स लारा दत्ता का मानना है कि आजकल सौन्दर्य प्रतिस्पर्धा में भाग लेने वाले प्रतिभागी अधिक तैयारी के साथ पहुंचती हैं.

मिस दिवा 2015 और मिस दिवा यूनिवर्स 2015 की मेजबानी और प्रतिभागियों की निगरानी कर रही लारा ने ई-मेल पर बताया, ”मुझे लगता है कि आज लड़कियां कुछ ज्यादा तैयारी के साथ पहुंचती हैं और पिछली प्रतियोगिताओं और प्रतिभागियों को देखकर अभ्यास किये रहती हैं.” 37 वर्षीय अभिनेत्री का यह भी मानना है कि प्रतिभागियों का अंतिम लक्ष्य हिन्दी सिनेमा जगत में अभिनय करना नहीं होना चाहिए.

लारा दत्ता ने कहा, ”खिताब जीतने से आपको दिशा मिलती है और आप हिन्दी फिल्म जगत पहुंच जाते हैं लेकिन इसके लिए आपने प्रतियोगिता में भाग और प्रशिक्षण नहीं लिया था.

उन्होंने कहा, ”एक अंतरराष्टï्रीय खिताब जीतना और अपने देश के लिए प्रतिनिधि होना पूरी तरह से एक अलग प्रयास है जिस पर लड़कियों को ध्यान देना चाहिए.”

Related Posts: