भारत की अंतरिक्ष विज्ञान की संस्था इसरो ने श्री हरीकोटा अंतरिक्ष तट से एक ध्रुवीय उपग्रह प्रमोचन वाहन में 28 विदेशी व 3 भारतीय उपग्रहों का प्रक्षेपण कर एक और कीर्तिमान स्थापित कर दिया.

इसरो के इस पी.एस.एल.वी. सी-40 ने यह ‘शतक’ मार अभियान में अंतरराष्टरीय कार्यक्रम को एन्ट्रिक्स कारपोरेशन लिमिटेड और इसरो के व्यापारिक अंग के बीच करार के अंतरगत किया. इसमें कनाडा, फिनलैंड, फ्रांस व ब्रिटेन के एक-एक और पांच कोरिया के तथा बाकी 19 उपग्रह अमेरिका के हैं. इसरो अभी तक 237 कस्टमर सेटेलाइट प्रक्षेपित कर चुका है. आज के प्रक्षेपण में कुल 31 उपग्रह छोड़े गए हैं.

12 जनवरी की सुबह 9 बजकर 29 मिनिट पर इन्हें छोड़ा गया और अगले 16 मिनिट 37 सैकण्ड में यह उपग्रह 503 किलोमीटर की परिधि में पहुंच गये.

इसरो अभी 51 भारतीय उपग्रह अंतरिक्ष में भेज चुका है. नव वर्ष 2018 में इसरो की यह बहुत ही अच्छी शुरुआत है. इसरो ने यह क्षमता भी प्राप्त कर ली कि यदि कहीं कभी कुछ तकनीकी खराबी आ भी जाती है तो उसे थोड़े समय में ही ठीक भी कर लिया जाता है.

गत प्रक्षेपण में वीएसएलवी- सी 39 में हीट शील्ड की समस्या आ गयी थी और उसे बिना किसी समस्या के ठीक भी कर लिया गया था. इसरो की यह आंतरिक जमीनी क्षमता भी उल्लेखनीय है.

Related Posts: