rainनई दिल्ली,  देश के कई हिस्सों में पड़ रहे भयंकर सूखे के बीच भारतीय मौसम विभाग की ओर से इस साल देश में मानसून की बारिश पिछले दो वर्षों की तुलना में काफी अच्छी रहने की संभावना जताए जाने से लोगों को बड़ी राहत मिली है.

मौसम विभाग की ओर से वर्ष 2016 के लिए आज जारी पूर्वानुमान के मुताबिक जून से सितंबर तक चलने वाले दक्षिण पश्चिम मानसून में बारिश दीर्घकालिक औसत के 106 फीसदी के बराबर रहने की संभावना है. यानी इस साल देश में सामान्य से 6 फीसदी ज्यादा बारिश होने का अनुमान है.

मौमस विभाग के महानिदेशक एल एस राठौर ने आज यहां कहा कि इस साल मानसून अपने निश्चित समय पर एक जून को केरल के तट पर दस्तक दे सकता है. मौसम विभाग के अनुसार इस साल मानसून पर अलनीनो का प्रभाव नहीं पड़ेगा. पूर्वानुमान के मुताबिक दक्षिण एशियाई क्षेत्र में सूखा पडऩे की वजह बने अलनीनो का प्रभाव जून-जुलाई तक पूरी तरह खत्म हो जाएगा और फिर अल नीनो के असर से झमाझम बारिश होगी.

हालांकि मौसम विभाग ने साथ ही यह भी कहा है कि मानसून से पहले तापमान में सामान्य से अधिक की वृद्धि से गर्मी का असर ज्यादा रहेगा. पिछले दो साल से कम बारिश होने के कारण देश में खाद्यान्न उत्पादन में गिरावट दर्ज हुई.

Related Posts: