udta_punjabमुंबई,   बंबई हाई कोर्ट ने पंजाब के युवाओं में नशे की लत पर बनी फिल्म ‘उड़ता पंजाब’ के केवल एक दृश्य को हटाकर इसे 17 जून को रिलीज करने का आज आदेश दिया.

फिल्म निर्माताओं ने कहा कि उन्होंने ही अदालत में इस दृश्य को हटाने की पेशकश की थी. कोर्ट ने उस दृश्य को फिल्म से हटाने के लिए कहा है, जिसमें टॉमी सिंह की भूमिका में शाहिद कपूर भीड़ के सामने पेशाब करते दिखाई दे रहे हैं. कोर्ट ने फिल्म सेंसर बोर्ड को फिल्म से केवल एक दृश्य को हटाकर 48 घंटे के अन्दर उसे ‘ए’ सर्टिफिकेट देने का निर्देश दिया.

न्यायमूर्ति सीएस धर्माधिकारी और न्यायमूर्ति शालिनी फांसालकर जोशी की खंडपीठ ने कहा कि सिनेमैट्रोग्राफ अधिनियम में शब्दों पर सेंसर शामिल नहीं है, इसलिए फिल्म सेंसर बोर्ड फिल्म सेंसर करने के लिए कानून द्वारा अधिकृत नहीं है. गौरतलब है कि सेंसर बोर्ड के अध्यक्ष पहलाज निहलानी ने फिल्म से 89 दृश्य हटाने और पंजाब के सभी संदर्भों को हटाने का आदेश दिया था. जिसका मतलब था कि फिल्म के नाम से भी पंजाब शब्द हटाया जाए. सेंसर बोर्ड के इस फैसले से काफी विवाद खड़ा हो गया और फिल्म प्रोडक्शन कंपनी फैंटम फिल्म्स बोर्ड के खिलाफ अदालत चली गयी थी.

Related Posts: