rawatदेहरादून,  उत्तराखंड के मुख्यमंत्री हरीश रावत ने आरोप लगाया है कि राज्य में राष्ट्रपति शासन हटने के बाद भी उनकी सरकार गिराने का षडयंत्र जारी है और केन्द्र सरकार उनके हर काम में बाधा पैदा कर रही हैं। श्री रावत ने यूनीवार्ता से बातचीत में आरोप लगाया कि केन्द्र उनके हर काम में रोड़े अटका रहा है लेकिन फिर भी जनता के हितों को ध्यान में रखते हुए वह विधानसभा भंग करने की बजाय जनता की सेवा आखिरी क्षणों तक करते रहेंगे।

.उन्होंने कहा,“राज्य में राष्ट्रपति शासन लागू होने के बाद पांच महीनों तक सरकार काम नहीं कर पायी जिससे विकास की गति आगे नही बढ़ सकी। हम आज भी सुरक्षित क्षेत्र में नही है। भाजपा (भारतीय जनता पार्टी) लगातार सरकार गिराने की साजिश कर रही है। अौर अब तो हालात यह है कि सब कुछ खुलेआम किया जा रहा है। उनके केन्द्रीय नेता आज भी जब यह बयान देते है कि कांग्रेस के कई विधायक उनके संम्पर्क में है जिससे उनके इरादों के बारे में पता चलता है।

हमें इन सब चुनौतियों के बीच विकास की गति को पटरी पर लाना है, जिसमें हम काफी सफल भी हुए है।” उन्होंने कहा,“ आज हमारे सामने कई चुनौतियों हैं, राष्ट्रपति शासन के बाद विकास की जो कड़ी टूट गयी थी अब उसे जोडने की चुनौती है। जो गति रूक गयी थी उसे आगे बढाना हैं। यह हमारे लिए अग्नि परीक्षा का समय है इस अग्नि परीक्षा को हमें पार करना है।

इतना सब कुछ होने के बाद भी हमने प्रयास किया कि सरकार को स्वाभाविक रूप से चलाया जाए ताकि किसी को यह अहसास नहीं हो कि सरकार गिराने के कारण राज्य प्रभावित रहा है। हम दिन रात मेहनत कर रहे है ताकि जनता के मन में किसी प्रकार की कोई अनिश्चितता की स्थिति न रहे और विभागीय कार्य भी गति पकड़ सके । ”

Related Posts: