obamaवाशिंगटन,  अमेरिका के राष्ट्रपति बराक ओबामा ने उत्तर कोरिया के आज के परमाणु परीक्षण को उकसावे की कार्रवाई बताया है और चेतावनी दी है कि इसके गंभीर परिणाम हो सकते हैं। उत्तर कोरिया ने आज सवेरे अपना पांचवां परमाणु परीक्षण किया। राष्ट्रपति बराक ओबामा को, जो चीन के बाद लाओस की यात्रा पर गये हुये थे वहां से रवाना होने के बाद विमान में उन्हें उत्तर कोरिया के परमाणु परीक्षण की जानकारी दी गयी।

श्री ओबामा ने कहा कि अमेरिका एशिया तथा विश्व के अन्य भागों में अपने सहयोगी देशों की सुरक्षा के लिये प्रतिबद्ध है। टोक्यो की खबर के अनुसार अमेरिका के उप विदेश मंत्री डेनियल रसेल ने कहा कि अमेरिका उत्तर कोरिया पर दबाव बनाने के लिए जापान,चीन,रूस तथा दक्षिण कोरिया से बातचीत कर रहा है। उन्होंने उत्तर कोरिया के परमाणु परीक्षण को उकसावे की गंभीर कार्रवाई बताया जिससे अन्तरराष्ट्रीय तथा क्षेत्रीय स्थिरता के लिए खतरा पैदा होता है।

पेरिस की खबर के अनुसार फ्रांस ने उत्तर कोरिया के परीक्षण की कड़े शब्दों में निंदा की है और इसे संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के प्रस्ताव का गंभीर उल्लंघन बताया है। बीजिंग से मिली रिपोर्ट के अनुसार चीन के विदेश मंत्रालय ने एक वक्तव्य में कहा है कि वह उत्तर कोरिया के इस परीक्षण का विरोध करने के साथ उससे अपील कर रहा है कि वह अपनी इस प्रकार की कार्रवाई जिससे स्थिति और बिगड़ती हो तुरंत बंद करे।

वक्त्व्य में कहा गया है कि चीन कोरिया प्रायद्वीप को परमाणु रहित बनाने के अपने रूख पर कायम है। उसका यह भी कहना है कि कोरियाई प्रायद्वीप की समस्या को सभी पक्षों को बातचीत के माध्यम से हल करना चाहिये। जापान की सरकार के मुख्य प्रवक्ता मुख्य कैबिनेट सचिव जोशीहिदा सुगा ने कहा है कि जापान उत्तर कोरिया के विरूद्ध अतिरिक्त प्रतिबंध लगाने पर विचार करेगा।

Related Posts: