supreme courtनयी दिल्ली 20 अगस्त. उच्चतम न्यायालय ने वर्ष 1997 के उपहार सिनेमा अग्निकांड मामले में कुछ महत्वपूर्ण बिंदुओं पर पक्ष रखने के लिए केवल 15 मिनट समय देने संबंधी सीबीआई का अनुरोध आज ठुकरा दिया.

अभियोजन एजेंसी ने न्यायमूर्ति अनिल आर दवे, न्यायमूर्ति कुरियन जोसेफ और न्यायमूर्ति आदर्श कुमार गोयल की खंडपीठ से अपराह्न पौने चार बजे से चार बजे तक विशेष सुनवाई करने का अनुरोध किया था, ताकि उपहार सिनेमा अग्निकांड मामले में सजा के परिमाण के बारे में छूट गए बिंदुओं पर दलीलें पेश की जा सकें. सीबीआई की ओर से वरिष्ठ अधिवक्ता हरीश साल्वे ने मामले से जुड़े कुछ बिंदुओं पर और दलीलें रखने के लिए 15 मिनट का समय मांगा था.

सीबीआई ने अपनी अपील में कहा था कि इस मामले में दोषी ठहराए गए और रियल एस्टेट के दिग्गज सुशील अंसल और गोपाल अंसल 30-30 करो? रुपये का जुर्माना भरकर तीन महीने में ही आगे की कैद से बच निकलने में कामयाब रहे, लेकिन खंडपीठ ने कहा, यह उचित नहीं होगा. हम पहले ही आदेश जारी कर चुके हैं.

Related Posts:

हमने भ्रष्टाचार खत्म किया
इन्द्रदेव मेहरबान रहे तो थमेगी महंगाई
केन्द्र ने उत्तराखंड में राष्ट्रपति शासन हटाने के आदेश को उच्चतम न्यायालय में चु...
दत्तात्रेय ने ‘एक कर्मचारी, एक ईपीएफ खाता’ योजना शुरू की
सीबीएसई की 12वीं परीक्षा में लड़कियां फिर अव्वल,पहले तीन स्थान पर भी किया कब्जा
अरमनाथ यात्रा शुरू, जम्मू से पहला जत्था रवाना