भोपाल,

मध्यप्रदेश एड्स संविदा कर्मचारी यूनियन की बैठक स्थानीय गुर्जर भवन सेकंड स्टॉप भोपाल में डॉ. हेमंत वर्मा की अध्यक्षता में व यूनियन के महासचिव अनुज सेन की उपस्थिति में सम्पन्न हुई. इस बैठक में एड्स नियंत्रण कार्यक्रम के अंतर्गत संविदा पर कार्य कर रहे 250 से अधिक अधिकारी, कर्मचारी पूरे प्रदेश से उपस्थित हुये.

एड्स नियंत्रण कार्यक्रम के अंतर्गत पूरे प्रदेश में सैकड़ों अधिकारी व कर्मचारी पिछले 18 वर्षों से अधिक संविदा पर कार्यरत् हैं. परंतु केन्द्र व राज्य शासन दोनों की उपेक्षा के शिकार हैं. संविदा पर कार्यरत् इन अधिकारी, कर्मचारियों द्वारा अपनी एक सूत्रीय मांग नियमितीकरण के लिये यह बैठक आयोजित कर मध्यप्रदेश शासन से यह मांग की है कि उन्हें तत्काल नियमित किया जावे.

एड्स नियंत्रण का कार्य अत्यंत जोखिमपूर्ण परिस्थितियों में उक्त अधिकारी, कर्मचारियों द्वारा विगत 18 वर्षों से किया जा रहा है. जिसके फलस्वरूप मध्यप्रदेश में एचआईव्ही का संक्रमण कम हुआ है. परंतु शासन द्वारा अपने ही कर्मचारियों को निरंतर उपेक्षित रखा गया है. ये अधिकारी, कर्मचारी नियमितीकरण की आशा में पिछले 18 वर्षों से अत्यंत कम वेतन पर कार्य कर रहे हैं, परंतु शासन इन पर कोई ध्यान नहीं दे रहा है.

यूनियन के द्वारा अपने विरोध प्रदर्शन करने के लिये पकौड़े का स्टॉल भी लगाया गया और मांग की गई कि यदि उन्हें नियमित नहीं किया गया तो ये अधिकारी, कर्मचारी पूरे प्रदेश में पकौड़े के स्टॉल लगाकर अपना विरोध प्रदर्शित करेंगे. बैठक के बाद उपस्थित समस्त संविदा अधिकारी, कर्मचारियों द्वारा एक रैली निकाल कर शासन से नियमितीकरण की मांग की गई.

Related Posts: