बंकरों से मिलेगी लोगों को राहत

जम्मू ,

पाकिस्तान द्वारा अक्सर सीजफायर का उल्लंघन करने से होने वाले जानमाल के नुकसान को कम करने के लिए सरकार ने अभेद्य सुरक्षा कवच तैयार करने का फैसला किया है.

जम्मू डिविजन में नियंत्रण रेखा और अंतरराष्ट्रीय सीमा पर पाकिस्तानी गोलाबारी के खतरे से जूझ रहे लोगों की सुरक्षा के लिए 14,000 सामुदायिक और व्यक्तिगत बंकर बनाए जाएंगे. रविवार को अधिकारियों ने इस प्लान के बारे में जानकारी दी. पाकिस्तान की नापाक हरकत से स्थानीय लोगों को महफूज रखने के लिए यह बड़ा कदम उठाया जा रहा है.

केंद्र सरकार ने हाल ही में 14,460 बंकरों के निर्माण के लिए 415.73 करोड़ रुपये आवंटित किए थे. अधिकारियों ने बताया है कि 7298 बंकर पुंछ और राजौरी के पास नियंत्रण रेखा पर बनाए जाएंगे. वहीं, 7162 भूमिगत बंकर जम्मू, कठुआ और सांबा की अंतरराष्ट्रीय सीमा पर बनाए जाएंगे. कुल 13,029 व्यक्तिगत बंकर और 1431 सामुदायिक बंकर बनाए जाएंगे.

व्यक्तिगत बंकर 160 स्क्वेयर फीट का होगा जिसमें 8 लोग आ सकेंगे, जबकि सामुदायिक बंकर 800 स्क्वेयर फीट का जिसमें 40 लोग आ सकेंगे. राजौरी में 4918 व्यक्तिगत और 372 सामुदायिक बंकर, वहीं 3076 व्यक्तिगत और 243 सामुदायिक बंकर कठुआ जिले में बनाए जाने की योजना है. पुंछ में 688 सामुदायिक और 1320 व्यक्तिगत बंकर, जम्मू में 1200 व्यक्तिगत और 120 सामुदायिक बंकर और सांबा में 2515 व्यक्तिगत और आठ सामुदायिक बंकर बनाए जाएंगे.

आंकड़ों के मुताबिक पिछले साल पाकिस्तान द्वारा सीजफायर का उल्लंघन करने से 19 सुरक्षाकर्मियों सहित 35 लोगों की जान गई थी. इनमें 12 आम नागरिक और चार बीएसएफ जवान शामिल थे. वरिष्ठ बीजेपी नेता और जम्मू से सांसद जुगल किशोर शर्मा ने केंद्र सरकार के इस कदम का स्वागत किया है.

उन्होंने कहा कि सीमा रेखा के पास रहने वाले लोगों के लिए खुशी की बात है कि केंद्र ने बंकरों के निर्माण के लिए धन आवंटित कर दिया है. उन्होंने कहा कि इससे स्थानीय लोगों को काफी राहत मिलेगी. सीमा पर फायरिंग में लोगों को संपत्ति और मवेशियों को काफी नुकसान होता है.

Related Posts:

अकबरुद्दीन ओवैसी के खिलाफ अरेस्ट वारंट
नीट मामले की सुनवाई से न्यायमूर्ति राव हटे
दिल्ली में 115 करोड़ की संपत्ति के मालिक हैं लालू और उनका परिवार : सुशील
रिजर्व बैंक ने जारी किया दो सौ रुपये का नोट
भारत में खाद्य प्रसंस्करण में निवेश करें वैश्विक कंपनियाँ : मोदी
जेपी आन्दोलन के सभी सेनानियों को मिले वित्तीय मदद : गहलोत