• कहा-किसी जज के खिलाफ एफआईआर नहीं
  • न्यायिक संस्था पर बेवजह किया जा रहा शक
  • निराधार आरोपों से न्यायपालिका की प्रतिष्ठा धूमिल हुई

जजों पर रिश्वत केस का मामला

नई दिल्ली,  सुप्रीम कोर्ट ने मेडिकल कॉलेज को मान्यता देने के लिए जजों के रिश्वत वाले केस की जांच एसआईटी से कराने वाली याचिका को खारिज कर दिया.

शीर्ष अदालत ने आरोपों को परेशान करने वाला बताते हुए कहा कि इस मामले में किसी जज के खिलाफ एफआईआर नहीं की गई. कोर्ट ने यह भी कहा कि इस तरह के निराधार आरोपों से न्यायपालिका की प्रतिष्ठा धूमिल हुई है.

शीर्ष अदालत ने सोमवार को इस मामले पर फैसला सुरक्षित रख लिया था. कोर्ट ने कहा, हम भी कानून से ऊपर नहीं हैं और सभी जरूरी प्रक्रियाओं का पालन होना ही चाहिए.

इस मामले में कोई एफआईआर सुप्रीम कोर्ट के किसी जज के खिलाफ नहीं दर्ज की गई. सुप्रीम कोर्ट के जजों के खिलाफ निराधार आरोपों की वजह से संस्था के सम्मान को ठेस पहुंची है. यह बहुत अफसोसजनक है कि ऐसे आरोपों के कारण न्यायिक संस्था को बेवजह ही शक के घेरे में रखा गया.

Related Posts: