modiनई दिल्ली, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अमेरिका दौरे के दौरान संयुक्त राष्ट्र को एक बार फिर राष्ट्र भाषा हिंदी में संबोधित किया. अपने भाषण में मोदी ने देश में फैली गरीबी को दूर कर एक गरीबी मुक्त दुनिया की बात कही.

साथ ही कहा कि 70 साल पहले बने संयुक्त राष्ट्र से आज दुनिया को काफी उम्मीद है. यूएन की विश्वसनीयता के लिए बदलाव जरूरी है. मोदी ने अपने भाषण में कहा, हम ऐसी संस्कृति से ताल्लुक रखते हैं जिसमें धरती मां होती है और हम उसके बच्चे. हमारे लिए पूरी दुनिया एक कुटुम्ब है. हम साधनों का इस्तेमाल करेंगे और दूसरों से उन साधनों को साझा भी करेंगे. भारत के इंफ्रास्ट्रक्चर की बात करते हुए पीएम मोदी ने कहा, हम मनीफैक्चरिंग सिस्टम को रिवाइज कर रहे हैं. इंफ्रास्ट्रक्चर के क्षेत्र में हम काफी आगे हैं. हमने एक नए सेक्टर पर ध्यान दिया है और वह है पर्सनल सेक्टर.

पीएम ने आगे एक स्वस्थ्य दुनिया के विजन का जिक्र करते हुए कहा, हम अगले 7 सालों में 1070 गीगावाट गैर-पारंपरिक बिजली का उत्पादन करेंगे. हमें गैर-पारंपरिक बिजली उत्पादन की ओर बढऩा चाहिए.

इससे पहले उन्होंने यूएन के सचिव बान की मून से मुलाकात की. यूएन सचिव ने भारत के स्वच्छता अभियान की तारीफ की. पीएम मोदी ने इंडिया एंड द यूनाइटेड नेशंस पर यूएन सचिव को एक बुक भेंट की. इससे पहले न्यूयॉर्क में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वल्र्ड बैंक के प्रेसिडेंट जिम योंग किम से भी मुलाकात की. दोनों नेताओं के बीच सस्टेनेबल डेवलपमेंट, क्लीन एनर्जी और क्लाइमेट चेंज पर चर्चा हुई. वल्र्ड बैंक के प्रेसिडेंट जिम के साथ पीएम मोदी की पहली ऑफिशियल मीटिंग थी. विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता विकास स्वरूप ने कहा कि यह दिन डेवलपमेंट के लिए समर्पित है.