आरएसएस के तीन दिवसीय शिविर का समापन

नवभारत न्यूज सीहोर,

देश में लोकतंत्र के लिए हिन्दूओं का बहुसंख्यक होना जरूरी है. हिन्दू समाज को छूआछूत मिटाकर समरसता लानी होगी. जातियों के नाम पर हिन्दूओं का विखंडन रोकना होगा. तभी हिन्दू लड़कियों और आदिवासियों का धर्मातंरण रोका जा सकता है.

उक्त विचार सोमवार को हिन्दू समागम कार्यक्रम में राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के अखिल भारतीय अधिकारी सह सरकार्यवाह दत्तात्रेय होसबले ने प्रकट किए. उन्होंने कहा कि संगठित होने का क्रम घर से शुरू करना होगा. सुसभ्य समाज से ही मजबूत राष्ट्र का निर्माण संभव है. हमें चुनौती स्वीकार करनी होगी.

देश के युवा को भारतीय संस्कृति की जानकारी नहीं है. युवा हिन्दू शक्ति बल को हनुमान जी की तरह भूल गया है. हिन्दू और राष्ट्रहित में राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ जामवंत की तरह 90 साल से जनसंख्या शक्तिबल याद दिला रहा है. संघ के कार्यकर्ता एक लाख 50 हजार तरह के सेवाकार्य कर रहे है.

श्री होसबले ने कहा कि संघ की चर्चा विभिन्न विषयों में देश और दुनिया में होती है,संघ निरंतर हिन्दू समाज को संगठित कर रहा है, संघ का स्वयं सेवक अपने सेवाकार्यो से समाज के हर वर्ग के व्यक्ति को प्रभावित करता है. सेवा कार्य और देशहित के लिए समाज को भी स्वयं सेवक को प्रोत्साहन करना चाहिए.

संघ पर विरोधी शक्तियां टीका टिप्पणी भी करती है. संघ के कार्य में अवरोध उत्पन्न करने की कोशिश की जाती है. इसके बाद भी हम भागे नहीं हैं. संघ कार्य 90 सालों से निरंतर जारी है, संघ राष्ट्र के लिए व्यक्ति निर्माण का कार्य करता है. उन्होंने कहा कि भारत की संस्कृति अमेरिका तक पहुंच चुकी है.

अब अमेरिका में भी सूर्य नमस्कार किया जा रहा है, लेकिन केवल 15 अगस्त और 26 जनवरी को झंडा लगाने से ही देश सुरक्षित नहीं होगा, हम को मिलकर रहना होगा. हिन्दू धर्म के नीचे देश में अनेक संप्रदायों का उदगम हुआ. सभी ईश्वर तक पहुंचने का रास्ता दिखाते है.

सभी शांति सदभावना का संदेश देते है. कन्या कुमारी से कश्मीर तक भारत को एक मानते है. मंच पर प्रांत संघचालक सतीश पिंपलीकर राजगढ़ सहकार्यवाह लक्ष्मीनाराण चौहान भी मौजूद थे. इस दौरान तीन दिन से शेरपुर स्थित मैदान पर आयोजित राष्ट्रीय स्वयं सेवक के प्रांत खंड टोली शिविर का समापन किया गया.

प्रमुख मार्गो से पथ संचलन निकाला गया. आवासीय मैदान पर प्रकट कार्यक्रम और हिन्दू संगम कार्यकम आयोजित किया गया. स्वयं सेवकों ने ध्वज प्रणाम के अपरांत आत्मरक्षा और स्वास्थ्य के लिए उपयोगी प्रदर्शन किया. इस अवसर पर अनेक गणमान्य नागरिकगण उपस्थित थे.

Related Posts: