विद्यार्थियों को पक्षियों को दाना पानी देने के लिए किया जागरुक

संत हिरदाराम नगर.

सुधार सभा द्वारा संचालित साधु वासवानी स्कूल के नंदवानी ऑडिटोरियम में विद्यार्थियों को पशु-पक्षियों को दाना पानी देने हेतु जागरुक कार्यशाला का आयोजन किया गया. सिद्ध भाऊ एवं कर्नल नारायण पारवानी ने बड़ी संख्या में विद्यार्थियों को अन्न के पात्र अनाज, गुल्लक वितरित किए सभी विद्यार्थियों ने यह संकल्प लिया कि रोज सुबह उठकर पक्षियों को अन्न व जल देंगे और उनकी दुआएं प्राप्त करेंगे.

शिक्षाविद् विष्णु गेहानी ने कहा कि जो विद्यार्थी पक्षियों को अन्न पानी देगा व सात्विक विचारों वाला बनेगा उसमें पशु-पक्षियों के प्रति करुणा का भाव आएगा.

सिद्ध भाउ ने विद्यार्थियों को बताया कि आज छोटे-छोटे बच्चों के चेहरे से निर्मलता और सौम्यता झलक रही हैं पक्षियों को दाना-पानी देने से हमारे मन में पक्षियों के प्रति दया, करुणा पैदा होती हैं और हमारे अंदर सात्विक प्रवृत्ति आती है परिणामस्वरुप हम मांसाहारी नहीं होंगें और हमारी बुद्धि निॢवकार होगी और हम व्यंसनों से दूर रहेंगे.

उन्होंने बच्चों को अपनी पाकेट मनी से दाना खरीदकर पक्षियों को देने के लिए प्रेरित किया और कहा कि पशु-पक्षियों को दाना पानी देने से हमारे घर में धन-धान्य की कमी नहीं रहती व किसी प्रकार की कोई बड़ी बीमारी नहीं होती. कर्नल नारायण पारवानी ने अपने विचारों को विद्यार्थियों के समक्ष रखते हुए कहा कि पहले पक्षी पेड़ों पर रहते थे पेड़ों पर छोटे-छोटे दाने होते थे जिससे वे अपनी भूख-प्यास मिटाते थे.

आज पेड़-पौधे लुप्त होते जा रहे हैं जिससे पशु-पक्षी भूखे प्यासे मर रहे हैं. कार्यक्रम में छात्रा शालिनी ने एक सुंदर गीत ओ री चिरैया नन्हीं सी चिडिय़ां अंगना में फिर आजा रे प्रस्तुत किया.

Related Posts: