katareजबलपुर,  मध्यप्रदेश उच्च न्यायालय ने आज राज्यसभा के लिए कल होने वाले चुनाव के पहले कांग्रेस प्रत्याशी विवेक तन्खा को राहत देते हुए नेता प्रतिपक्ष सत्यदेव कटारे को डाक मतपत्र जारी करने के आदेश के खिलाफ लगी निर्दलीय प्रत्याशी विनोद गोटिया और चुनाव आयोग की पुर्ननिरीक्षण याचिका को खारिज कर दिया है।

एकलपीठ ने कल कांग्रेस विधायक व नेता प्रतिपक्ष श्री कटारे को डाक मतपत्र जारी किये जाने के सम्बन्ध में आदेश पारित किया था,, जिसे श्री गोटिया और आयोग ने चुनौती देते हुए पुर्ननिरीक्षण याचिका दायर की थी। कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश न्यायमूर्ति राजेन्द्र मेनन व न्यायमूर्ति एके श्रीवास्तव की युगलपीठ ने सुनवाई के बाद इसे खारिज कर दिया।

श्री कटारे स्वास्थ्य संबंधित कारणों के चलते मुम्बई में भर्ती हैं। इसके चलते प्रदेश कांग्रेस समिति ने उन्हें मतदान के लिए डाक मतपत्र जारी किये जाने की मांग करते हुए याचिका दायर की थी। चुनाव आयोग ने इसे चुनौती देते हुए कहा था ये प्रदेश कांग्रेस कमेटी की तरफ से दायर की गयी है, इसलिए राइट टू वोट के अधिकार का प्रश्न ही नहीं उठता है। इसके लिए विधायक श्री कटारे को याचिका दायर करनी चाहिए थी। इसके अलावा आयोग ने नियमों का हवाला देते हुए कहा था कि ऐसा कोई प्रावधान नहीं है कि स्वास्थ्य संबंधित कारणों के कारण डाक मतपत्र जारी किया जायेगा। चुनाव प्रक्रिया प्रारंभ होने के बाद न्याय पालिका को उसमें हस्तक्षेप का अधिकार नहीं होने की भी बात कही गई थी।

प्रदेश कांग्रेस समिति की तरफ से युगलपीठ को बताया गया कि धारा 18 (सी) तथा 68 (ए) के तहत राइट टू वोटिंग के तहत डाक मतपत्र जारी करने का प्रावधान है। नियमों में यह भी उल्लेख नहीं है कि स्वास्थ्य संबंधित कारणों के कारण डाक मतपत्र जारी नहीं किया जा सकता है।

Related Posts:

अब पटवारी बनने की परीक्षा ऑनलाइन होगी
स्वाईन फ्लू से और चार संदिग्ध मरीजों की मौत
पर्यावरण सुधार, वनों की सुरक्षा व विकास में संतुलन जरूरी
सोनियाजी, क्या मेरी छवि धूमिल करने का काम सौंपा है?
प्लास्टिक पार्क की स्थापना से प्रदेश को मिलेगी गति
हर इंसान तांत्रिक, घर-घर में हो तंत्र, किचन तो केन्द्र : शिवानी दुर्गा