स्वच्छ रेडियो चौराहा बनेगा 7 नंबर

  • इब्राहिमगंज इलाके में खुद ठेला लेकर निकले महापौर
  • आवाज लगाकर लोगों से मांगा पुराना सामान
  • स्वच्छता और रोको-टोको आत्मसात् करने का आह्वान
  • कबाड़ से बनाई जाएंगी कलाकृतियां

भोपाल,

स्वच्छ भारत मिशन के अंतर्गत ”स्वच्छ सर्वेक्षण-2018” में भोपाल शहर को देश का सबसे स्वच्छ शहर एवं सबसे स्वच्छ राजधानी बनाने हेतु नागरिकों को प्रेरित करने एवं इस अभियान से उन्हें जोडऩे के लिए महापौर आलोक शर्मा द्वारा लगातार नवाचार किए जा रहे हैं.

इसी क्रम में महापौर आलोक शर्मा ने कबाड़ से जुगाड़ कार्यक्रम के तहत रविवार को प्रात: इब्राहिमगंज क्षेत्र में ठेले पर आवाज लगाकर लोगों के घर में पुराने अनुपयोगी सामान को खरीदा इस पुराने सामान से 7 नंबर स्टॉप के चौराहे पर एक रेडियो स्थापित किया जाएगा और इस चौराहे को स्वच्छ रेडियो वाला चौराहा बनाते हुए नागरिकों को स्वच्छता के संदेश दिए जाएंगे.

कबाड़ा खरीदने के दौरान महापौर शर्मा ने नागरिकों को स्वच्छता बनाए रखने एवं रोको-टोको अभियान को आत्मसात करने का आव्हान भी नागरिकों से किया.

इस अवसर पर निगम परिषद अध्यक्ष डॉ. सुरजीत सिंह चौहान, निगम आयुक्त प्रियंका दास, महापौर परिषद के सदस्य महेश मकवाना, क्षेत्रीय पार्षद रवि वर्मा आदि ने भी नागरिकों से स्वच्छता बनाए रखने और अपने शहर को देश का सबसे स्वच्छ शहर बनाने में बढ़-चढ़कर सहभागिता करने का आव्हान भी किया.

कबाड़ से जुगाड़ कार्यक्रम के तहत जुगाडू कलाकारों के माध्यम से अलग-अलग कलाकृतियां बनवाई जाएंगी और इन कलाकृतियों को शहर के सौंदर्यीकरण में उपयोग किया जाएगा साथ ही युवाओं को भी जुगाडू कलाकारों के माध्यम से प्रेरित किया जाएगा.

महापौर आलोक शर्मा रविवार को पुराने शहर के वार्ड 17 के अंतर्गत इब्राहिमगंज शीतला माता मंदिर पहुंचे और हाथ ठेला थामकर जूना-पुराना सामान देने की आवाज लगाई. महापौर को जूना-पुराना सामान खरीदने हेतु आवाज लगाते देख नागरिक अचंभित हो गए.

महापौर शर्मा ने नागरिकों से स्वच्छता बनाए रखने एवं कबाड़े के कारण गंदगी एवं डेंगू मलेरिया आदि का कारण बनने की समझाईश देने पर लोगों का कबाड़ बेचने के लिए हुजूम लग गया और इब्राहिमगंज की कला बाई, रामचरण, राकेश चौहान, सरोज, आर.के. करेन सहित अनेक लोगों ने अपने घरों के पुराने डिब्बे, बाल्टियां, टी.व्ही., पंखे, कूलर, रद्दी सहित अन्य प्रकार का पुराना सामान लाकर ठेले पर बेचना शुरू किया.

इस सामान को महापौर आलोक शर्मा ने कबाड़ी वाला वेंडर के माध्यम से खरीदा व वेंडर से रशीद भी दिलवाई तथा नागरिकों को स्वच्छ सर्वेक्षण-2017 की भांति और अधिक बढ़-चढ़कर 2018 के स्वच्छ सर्वेक्षण में सहभागिता करने का आव्हान किया.

महापौर शर्मा ने इस अवसर पर कहा कि स्वच्छता अभियान में भारत सरकार द्वारा दिए गए पैरामीटर्स के अनुसार शहर को साफ-स्वच्छ बनाने के लिए और इस अभियान से अधिक से अधिक नागरिकों की सहभागिता सुनिश्चित करने हेतु नगर सरकार निरंतर प्रयास कर रही है.

उन्होंने कहा कि आमतौर पर नागरिक घरों का जूना-पुराना सामान तब तक नहीं बेचते जब तक उन्हें घरों में स्थान की जरूरत नहीं होती. महापौर शर्मा ने कहा कि कई लोग अनुपयोगी सामान को घरों के बाहर भी रख देते हैं.

घरों एवं घरों के बाहर रखे सामान में पानी भी जमा हो जाता है जिसमें बीमारियों के फैलाने वाले मच्छर आदि पनपते हैं और डेंगू, मलेरिया, चिकनगुनिया आदि जैसी बीमारियों फैलने की आशंका रहती है.

उन्होंने नागरिकों से अपील की कि वह अपने स्वयं से, परिवार से, घर से स्वच्छता की शुरूआत करें और देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी व प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान कि मंशा के अनुसार अपने शहर को साफ रखकर अपने प्रदेश एवं देश को उन्नति के पथ पर आगे बढ़ायें.

ये भी रहे मौजूद

इस अवसर पर अपर आयुक्त एम.पी. सिंह, उपायुक्तद्वय हरीश गुप्ता एवं बी.डी. भुमरकर, पूर्व पार्षदद्वय पंकज चौकसे एवं विष्णु राठौर सहित बड़ी संख्या में नागरिकगण मौजूद थे.

Related Posts: