srideviमुंबई, बॉलीवुड की रूप की रानी श्रीदेवी का कहना है कि कमियां रिश्तो में नही लोगो में होती है । प्यार को लेकर हर किसी का अपना फलसफा है, लेकिन इस मामले में श्रीदेवी का फंडा बिल्कुल क्लियर है। श्रीदेवी का मानना है कि इसे कभी भी जस्टीफाई नहीं करना चाहिए।

श्रीदेवी ने कहा मौजूदा परिस्थिति में लोग कहते हुए मिल जाएंगे कि ‘यार प्यार तो था लेकिन अब जम नहीं रही है।’ मैंने महसूस किया कि रोमांटिक चीजों को जस्टीफाई करना ही नहीं चाहिए। जस्टीफाई करने पर जिंदगी का एहसास कम हो जाता है। जो लोग कहते हैं कि प्यार नहीं रहा, उन्हें मैं यही कहूंगी कि वो या तो तब गलत थे या अब गलत हैं।

श्रीदेवी ने कहा शादी में कुछ गलत नहीं है। गलत आप होते हैं। संबंधों में कोई कमी नहीं होती। कमी हमारे अंदर पैदा हो जाती है। श्रीदेवी का मानना है कि आस्था, अहसास और विश्वास से हर मुश्किल से लड़ने की ताकत मिलती है। हम सभी की जिंदगी में असफलताएं हैं।

आस्था, एहसास और विश्वास से हमें ऊर्जा मिलती है। हर आदमी की जिंदगी में समस्याएं आती हैं लेकिन समस्याएं इंसान से बड़ी नहीं होतीं। इंसान ही उसे बड़ा बनाता है। समस्या के बारे में सोचने के बजाए उसके समाधान के बारे में सोचेंगे तो हर कोई अपनी समस्या का हल खोज सकता है।

Related Posts: