नई दिल्ली . एनडीए और ममता बनर्जी की रणनीति को बड़ा झटका देते हुए पूर्व राष्ट्रपति ए.पी.जे. अब्दुल कलाम ने राष्ट्रपति चुनाव लडऩे से इनकार कर दिया है।

कलाम ने सोमवार शाम को प्रेस रिलीज़ जारी कर साफ किया कि एनडीए के पास जरूरी बहुमत न होने के कारण वह राष्ट्रपति चुनाव में खड़ा नहीं होना चाहते। कलाम ने सभी पार्टियों को उन्हें समर्थन देने के लिए धन्यवाद दिया। कलाम के इनकार से एनडीए की पूरी रणनीति गड़बड़ा गई है। अब ममता की अगली रणनीति क्या होगी और एनडीए किसे उम्मीदवार बनाएगा, इस पर सभी की नजरें टिकी हैं। बीजेपी की आज कोर कमिटी की बैठक होने वाली है, वहीं ममता बनर्जी तृणमूल सांसदों और विधायकों की बैठक लेने वाली हैं।

ममता लेंगी बड़ा फैसला

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री और तृणमूल कांग्रेस की अध्यक्ष ममता बनर्जी सोमवार को कोलकाता में शाम 6 बजे एक अहम बैठक करने जा रही हैं। इस बैठक में टीएमसी के सभी सांसदों, विधायकों और मंत्रियों को शामिल होने का फरमान भेज दिया गया है। माना जा रहा है कि बैठक में ममता यह फैसला ले सकती हैं कि वह यूपीए के साथ रहेंगी या नहीं?

नीतीश ने कहा, अभी फैसला नहीं
वहीं, नीतीश कुमार ने कहा है कि राष्ट्रपति पद की उम्मीदवारी को लेकर फिलहाल कोई फैसला नहीं हुआ है और सभी की सहमति से फैसला लिया जाएगा। नीतिश ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में बताया कि पीएम मनमोहन सिंह और प्रणव मुखर्जी ने उन्हें फोन किया था। उन्होंने कहा, सभी पार्टियों की सहमति से ही राष्ट्रपति चुने जाने चाहिए। शरद यादव ने कहा है कि एनडीए में राष्ट्रपति पद की उम्मीदवार को लेकर कोई मतभेद नहीं है।

पर्दे के पीछे हो रही है डील: ममता
इससे पहले कलाम को समर्थन के लिए फेसबुक पर मोर्चा खोल चुकीं ममता ने आरोप लगाया है कि इस पद के लिए पर्दे के पीछे डील हो रही है। रविवार को उन्होंने भ्रष्टाचार और खरीद-फरोख्त के खिलाफ आवाज़ उठाई और राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार के लिए पिछले दो-तीन दिन में हुए घटनाक्रमों का जिक्र करते हुए गड़बडिय़ों के कई संकेत दिए। अपनी फेसबुक अपील को लोगों के समर्थन से उत्साहित ममता बनर्जी ने लोगों को शुक्रिया कहा और लिखा, मुझे विश्वास है कि हमारी एकजुट आवाज़ इस मुद्दे को अगले स्तर तक ले जाएगी। उन्होंने भारत के सभी नागरिकों से भ्रष्टाचार के खिलाफ, परदे के पीछे से होने वालीं डील्स, चालबाजियों के खिलाफ आवाज़ उठाने की भी अपील की।

Related Posts: