modi1नई दिल्ली,  श्री श्री रविशंकर की संस्था आर्ट ऑफ लिविंग के विश्व सांस्कृतिक समारोह के उद्घाटन के बाद पीएम मोदी ने जमकर इसकी तारीफ की. कहा, इस कार्यक्रम से दुनिया में भारत की पहचान बनी है.

मोदी ने यह भी कहा कि दुनिया को भारत की सांस्कृतिक विरासत की तलाश है. मोदी ने कहा जब अपने सपनों को लेकर चलते हैं, तब आर्ट ऑफ लिविंग चाहिए. जब हम इरादों को लेकर चलते हैं, तब आर्ट ऑफ लिविंग चाहिए. जब संकटों से जूझते हैं, तब आर्ट ऑफ लिविंग चाहिए. जब अपने नहीं औरों के लिए जीते हैं, तब आर्ट ऑफ लिविंग चाहिए. जब स्व से समस्ति की यात्रा करते हैं, तब आर्ट ऑफ लिविंग चाहिए.

उन्होंने कहा कि भारत ने उपनिषद से लेकर उपग्रह तक की यात्रा की है. मोदी ने कहा कि अंतरराष्ट्रीय संबंधों में सॉफ्ट पावर्स का अहम किरदार होता है और यह कला और संस्कृति का कुंभ मेला है. उन्होंने कहा, हम अहम् ब्रह्मास्मि से शुरू करते हैं और वसुधैव कुटुंबकम् की यात्रा करते हैं, यही आर्ट ऑफ लिविंग है.
आध्यात्मिक गुरु श्री श्री रविशंकर ने कहा कि जब कोई महान कार्य किया जाता है, तो तमाम से विघ्न भी आते हैं. आखिर में उनका फल बहुत मीठा होता है. भारत में हम सपना लंबे समय से देखते रहे कि विश्व एक परिवार हो. अब लगता है कि वह सपना पूरा हो रहा है. वसुधैव कुटुंबकम सच हो रहा है.

Related Posts: