arun-jaitleyनयी दिल्ली, सरकार ने विपक्षी दलों से कश्मीर में उत्पन्न स्थिति के वास्तविक कारणों पर ध्यान देने की अपील करते हुए आज कहा कि वे इस संवेदनशील मुद्दे पर राजनीति न करें आैर जहां सुरक्षा बलों को भी संयम बरतने जरूरत है वहीं राज्य के युवकों को भी पाकिस्तान से प्रेरित किसी आतंकवादी का महिमामंडन नहीं करना चाहिए।

विपक्ष के नेता गुलाम नबी आजाद द्वारा कश्मीर के हालात पर आज राज्यसभा में शुरू की गई अल्पकालिक चर्चा में हिस्सा लेते हुए सदन के नेता अरूण जेटली ने कहा कि यह सही बात है कि वहां स्थिति गंभीर है लेकिन इसे सामान्य बनाने के लिए संसद से बंटी हुई नहीं बल्कि एक स्वर में आवाज निकलनी चाहिए।

श्री आजाद ने कश्मीर में प्रदर्शनकारियों पर जरूरत से अधिक बल प्रयोग का आरोप लगाते हुए कश्मीर की स्थिति पर सर्वदलीय बैठक बुलाने तथा अधिक बल प्रयोग करने वालों की जिम्मेदारी तय करने की मांग की। उन्होंने कहा कि , सार्वजनिक बयानबाजियों और टेलीविजन चैनलों पर होने वाली बहसों के लिए दिशा निर्देश भी तैयार किये जाने चाहिए। उन्होंने कहा कि कांग्रेस आतंकवाद के खात्मे के लिए सरकार के साथ खडी है लेकिन कश्मीरियों के साथ बर्बर व्यवहार नहीं होना चाहिए।

Related Posts: