arunसहनशीलता को लेकर वित्तमंत्री अरुण जेटली ने मंगलवार को कहा कि लेखकों-कवियों तथा अन्य लोगों द्वारा सम्मान लौटाए जाने की कोई तुक नहीं है, क्योंकि देश में पूरी तरह शांति बनी हुई है, और असहनशीलता कहीं नहीं दिखती।

वित्तमंत्री ने सवाल करते हुए कहा, कहां है असहनशीलता… देश में पूरी तरह शांति बनी हुई है, और हमारा देश न कभी असहनशील था, और न कभी होगा… उन्होंने कहा कि कांग्रेस और अन्य दलों के रायों में ये घटनाएं घट रही हैं, उसके लिए केंद्र सरकार को दोषी क्यों ठहराया जा रहा है।

जब उनसे पूछा कि शाहरुख खान भी कह रहे हैं कि असहनशीलता नहीं होनी चाहिए तब जेटली ने कहा, अगर कोई व्यक्ति कह रहा है कि असहनशीलता नहीं होनी चाहिए तो इसमें गलत क्या है।

Related Posts: