नयी दिल्ली, कांग्रेस के वयोवृद्ध नेता नारायण दत्त तिवारी और उनके पुत्र रोहित शेखर ने आज यहां भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की सदस्यता ग्रहण करके राजनीतिक पंडितों को चौंका दिया। श्री तिवारी एवं उनके पुत्र ने आज यहां भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के निवास पर उनसे मुलाकात की। श्री रोहित शेखर ने श्री शाह को गुलदस्ता भेंट कर उनका अभिनंदन किया जबकि श्री शाह ने वयोवृद्ध नेता श्री तिवारी को पुष्पगुच्छ भेंट कर भाजपा में उनका स्वागत किया।

श्री तिवारी उत्तर प्रदेश के चार बार और उत्तराखंड के एक बार मुख्यमंत्री, केन्द्र सरकार में संचार सहित विभिन्न विभागों में कैबिनेट मंत्री, योजना आयोग के उपाध्यक्ष और आंध्र प्रदेश के राज्यपाल रहे हैं। उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड में उन्हें ब्राह्मण नेता के रूप में जाना जाता है। श्री तिवारी की समाजवादी पार्टी (सपा) के नेता मुलायम सिंह यादव और मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के साथ नज़दीकियों को देखते हुए उनके भाजपा में शामिल होने के फैसले को आश्चर्य से देखा जा रहा है।

उनका संपूर्ण जीवन कांग्रेस में ही बीता है। दो दशक पहले उन्होंने कांग्रेस के तमाम दिग्गज नेताओं के साथ मिलकर कांग्रेस तिवारी का गठन किया था , लेकिन बाद में वे कांग्रेस में वापस लौट आये थे। दोनों राज्याें में विधानसभा चुनावों काे देखते हुए भाजपा को श्री तिवारी के पार्टी में आने से ब्राह्मण वोटों के लाभ की उम्मीद है। श्री रोहित शेखर को भाजपा उत्तराखंड की किसी सीट से टिकट मिलने की भी संभावना है।

Related Posts:

प. एशिया में बाहर से बदलाव थोपने के खिलाफ है भारत
सामूहिक नाकामी पड़ी भारी
क्या अच्छे दिन सिर्फ बड़े बिल्डरों के लिए: अन्ना
आतंकवाद पर पाकिस्तान नहीं निभा रहा सकारात्मक भूमिका : राजनाथ सिंह
हंगामे के कारण राज्यसभा में शून्यकाल नहीं चला, प्रश्नकाल बाधित
भरतपुर में जाट आरक्षण का व्यापक प्रभाव निषेधाज्ञा लागू